S M L

सुकमा नक्सली हमला: हमले में डेढ़ सौ लड़कियों ने चलाई थीं गोलियां

सुकमा मामले के मास्टरमाइंड का पता चल गया है. उसका नाम हिडिमा बताया जा रहा है

Updated On: Apr 25, 2017 08:19 PM IST

FP Staff

0
सुकमा नक्सली हमला: हमले में डेढ़ सौ लड़कियों ने चलाई थीं गोलियां

सुकमा में हुए नक्सली हमले में ये पहला मौका बताया जा रहा है जब नक्सलियों के दस्ते में बड़ी तादाद में लड़कियां भी शामिल थीं. अभी तक सुरक्षा बलों और चश्मदीदों के मुताबिक हमलावरों की तादाद करीब 300 बताई गई है.

सीआरपीएफ प्रवक्ता डिप्टी कमांडेंट राजीव बताते हैं कि छत्तीसगढ़ में सुकमा में हुई नक्सली वारदात में करीब 150 पुरुष और 150 लड़कियां शामिल थीं. उनका कहना है कि ऐसा पहली बार हुआ है.

लड़कियों के पास नहीं थे कोई हथियार

सूत्र बताते हैं कि हमले के दौरान नक्सली लड़कियों का दस्ता सबसे पहले अर्धसैनिक बलों के सामने पहुँचा था. इनमें 50 से 60 लड़कियों के पास कोई हथियार नहीं था.

मगर कुछ ही देर में सुरक्षाबलों पर गोलीबारी शुरू हो गई. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि हमले की शुरुआत लड़कियों के हथियारबंद दस्ते ने ही की थी. उसके बाद पुरुषों ने सुरक्षाबलों पर गोली चलानी शुरू कर दीं.

सीआरपीएफ प्रवक्ता का कहना था कि जंगल में पेट्रोलिंग के दौरान हनी ट्रैप जैसी कोई बात अभी तक सामने नहीं आई है. ऐसा वहां कुछ नहीं था.

मास्टर माइंड को तलाश रही है सीआरपीएफ इंटेलीजेंस

डिप्टी कमांडेंट राजीव बताते हैं कि सुकमा मामले के मास्टरमाइंड का पता चल गया है. उन्होंने बताया कि उसका नाम हिडिमा बताया जा रहा है. हिडिमा नक्सली संगठन पीपुल्स लिबरेशन ऑफ गुरिल्ला आर्मी का मुखिया है.

25 साल का हिडिमा सुकमा के पालोडी का गांव का रहने वाला है. हिडिमा का संगठन बुरकापाल और चिंतागुफा इलाकों में सक्रिय माना जाता है. हिडिमा को घात लगाकर हमले करने का मास्टरमाइंड माना जाता है. ये सीआरपीएफ पर कई बड़े हमलों को अंजाम दे चुका है. हिडिमा मोस्ट वॉन्टेड माओवादी है, जिस पर 25 लाख रुपए का इनाम भी घोषित है.

(साभार न्यूज 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi