S M L

महिलाओं के सहयोग के बिना देश आगे नहीं बढ़ सकता: मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने कहा कि मातृशक्ति अपनी उन्नति करने में खुद सक्षम है.

Updated On: Sep 29, 2018 08:54 PM IST

Bhasha

0
महिलाओं के सहयोग के बिना देश आगे नहीं बढ़ सकता: मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने कहा कि मातृशक्ति अपनी उन्नति करने में खुद सक्षम है और महिला विमर्श भारतीय दर्शन के अनुरूप ही होना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महिलाओं के सहयोग के बिना देश की उन्नति संभव नहीं है.

भागवत जयपुर में इंदिरा गांधी पंचायती राज संस्थान में मातृ शक्ति संगम को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि भारतीय विचार परंपरा में पुरुष और महिला को एक-दूसरे का पूरक माना गया है और महिला और पुरुष दोनों के अपनी-अपनी प्राकृतिक गुण संपदा के आधार पर साथ चलने से ही सृष्टि चलती है.

उन्होंने कहा कि महिलाएं पुरुषों से किसी भी तरह से कमतर नहीं है. जो कार्य पुरुषों के लिए संभव नहीं, वह कार्य भी महिला करने में समर्थ है. देश में 50 फीसदी हिस्सा महिलाओं का है उनके सहयोग के बिना देश की उन्नति संभव नहीं.

कानून की अपनी सीमाएं

भागवत ने कहा कि जिस प्रकार महिलाएं परिवार का कुशल नेतृत्व करती आई हैं उसी प्रकार आज के समय में समाज के भी प्रमुख कार्यों में नेतृत्व दे रही हैं. यह हमारे लिए अच्छे संकेत हैं. उन्होंने कहा कि महिला सुरक्षा के लिए कठोर कानून की आवश्यकता है लेकिन कानून की अपनी सीमाएं हैं. सिर्फ कठोर कानून बनाने से नहीं, समाज जागरण से ही पूर्ण समाधान संभव है.

उन्होंने कहा कि इसी कारण भारतीय संस्कृति में वह नारी शक्ति की बजाय मातृ शक्ति के रूप में प्रतिष्ठित है. भागवत ने कहा कि पुरुषों को महिलाओं को देवी या दासी मानने की जगह वर्तमान परिस्थितियों के अनुरूप उनके प्रति अपनी सोच बदलनी होगी और महिलाओं को भी अपने कल्याण के लिए पुरुषों की ओर देखने की बजाय स्वयं ही जाग्रत होना होगा.

इस दौरान मातृ शक्ति संगम में राजस्थान के सभी जिलों के विभिन्न स्थानों पर समाज जीवन में अग्रणी भूमिका निभा रही 284 महिलाएं उपस्थित रहीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi