S M L

मॉब लिंचिंग: अंधविश्वास के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम चलाएगी असम सरकार

प्रेस रिलीज में कहा गया कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की अध्यक्षता में सोमवार शाम यहां हुई एक हाई लेवल मीटिंग में यह फैसला लिया गया

Bhasha Updated On: Jun 12, 2018 01:15 PM IST

0
मॉब लिंचिंग: अंधविश्वास के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम चलाएगी असम सरकार

असम सरकार ने कार्बी आंगलोंग जिले में दो लोगों की पीट-पीटकर हत्या समेत अंधविश्वास और अज्ञानता की घटनाओं को देखते हुए सभी विकास मंडलों और पंचायतों में जागरूकता कार्यक्रम ‘ संस्कार ’ शुरू करने की योजना बनाई है.

एक प्रेस रिलीज में मंगलवार को कहा गया कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की अध्यक्षता में सोमवार शाम यहां हुई एक हाई लेवल मीटिंग में यह फैसला लिया गया.

प्रेस रिलीज में मुख्यमंत्री के हवाले से कहा गया है , ‘असम को उसके विशिष्ट सत्कार के लिए पूरे भारत में पहचाना जाता है और देशभर से आने वाले लोग राज्य में जहां भी जाएं तो उन्हें मैत्रीपूर्ण माहौल मिलना चाहिए.’

मॉब लिंचिंग के शिकार दोनों युवकों के माता-पिता को दिया गया निमंत्रण

सोनोवाल ने उन दोनों युवकों के माता - पिता को भी कार्यक्रम के बारे में जानकारी दी जिनकी बच्चा चुराने के संदेह में शुक्रवार को कार्बी आंगलोंग जिले में हत्या कर दी गई थी.

प्रेस रिलीज में कहा गया कि इनके माता-पिता ने राज्य में जागरूकता पैदा करने की जरूरत की वकालत की थी ताकि समाज में फिर ऐसी घटनाएं ना हो पाएं. उन्होंने ऐसे कार्यक्रमों में भाग लेने की भी इच्छा जताई.

प्रेस रिलीज के अनुसार, असम विज्ञान प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद (एएसटीईसी) नोडल एजेंसी होगी और इस कार्यक्रम में सभी पुलिस उपायुक्त , अधीक्षक और किसी जिले में सभी संबंधित सरकारी विभाग शामिल होंगे.

अंधविश्वास के खिलाफ लगातार लड़ रहे सामाजिक कार्यकर्ता बीरूबाला राभा भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे.

क्या था मामला 

घटना असम के कार्बी आंगलोंग जिले की थी जहां शुक्रवार को दो युवकों की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई. सिर्फ इस शक पर कि वे दोनों बच्चा चोर हैं. तफ्तीश में पता चला कि वे दोनों भाई थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi