S M L

'बच्चा चोरी' के शक में गूगल इंजीनियर की पीट-पीट कर हत्या, 3 अन्य लोग घायल

जिस इलाके में यह घटना हुई, वहां से तीन व्हाट्सएप एडमिन को गिरफ्तार किया गया है. इन तीनों पर बच्चा चोरी से जुड़े फोटो और मैसेज फैलाने के आरोप हैं

FP Staff Updated On: Jul 15, 2018 01:04 PM IST

0
'बच्चा चोरी' के शक में गूगल इंजीनियर की पीट-पीट कर हत्या, 3 अन्य लोग घायल

कर्नाटक के बीदर जिले में 'बच्चा चोरी' के शक में एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को पीट-पीट कर मार डालने की खबर है. इस घटना में तीन अन्य लोग गंभीर रूप से घायल हैं जिनमें एक कतर का नागरिक भी है.

मृत सॉफ्टवेयर इंजीनियर गूगल का कर्मचारी है जिसकी उम्र 32 साल बताई जा रही है. अधिकारियों ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि हैदराबाद के मलकपेट निवासी मोहम्मद आजम अहमद जो कि गूगल में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे, उन्हें मौके पर ही पीट-पीट कर मार डाला गया जबकि कतर के नागरिक सलाम इदल कुबैसी (38), नूर मोहम्मद और मोहम्मद सलमान (हैदराबाद के बरकस निवासी) इस घटना में गंभीर रूप से घायल हैं. तीनों घायलों को पहले बीदर सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिन्हें बाद में हैदराबाद भेज दिया गया.

औरद पुलिस थाने के एक अधिकारी ने बताया कि जिस इलाके में यह घटना हुई, वहां से तीन व्हाट्सएप एडमिन को गिरफ्तार किया गया है. इन तीनों पर बच्चा चोरी से जुड़े फोटो और मैसेज फैलाने के आरोप हैं. अधिकारी ने कहा, जिस भीड़ ने लोगों को निशाना बनाया, उनमें से 30 को गिरफ्तार कर लिया गया है.

कुबैसी की पत्नी जैबुनिसां ने बताया कि चारों लोग शुक्रवार सुबह हैदराबाद से बीदर के लिए रवाना हुए थे, जहां उन्हें एक कार्यक्रम में हिस्सा लेना था. कार्यक्रम के बाद वे एक प्लॉट पर जा रहे थे जिसे वे खरीदना चाहते थे.

कुबैसी की पत्नी ने कहा, 'शाम साढ़े चार बजे वे लोग औरद तालुका के मुकरी गांव में एक स्कूल के पास चाय पीने के लिए रुके. तभी उन्हें कुछ बच्चे स्कूल से घर लौटते दिखे. सलाम के पास कुछ विदेशी चॉकलेट थी जिसे वे बच्चों में बाटंने लगे. तब तक किसी ने यह अफवाह फैला दी कि कुछ लोग चॉकलेट खिलाकर बच्चों को बहला-फुसला रहे हैं. अचानक वहां बड़ी भीड़ जमा हो गई.'

भीड़ को उग्र होता देख चारों बड़ी तेजी से अपनी टोयटा कार से भागने लगे. इसी बीच किसी ने इनकी फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर डाल दी और इन्हें पकड़ने का मैसेज वाइरल कर दिया.

घटना के बारे में एमआईएम के विधायक अहमद बलाला ने कहा, पीड़ितों के मुताबिक, अगले गांव में लोगों ने सड़क पर पेड़ गिराकर रास्ता बंद कर दिया था. आजम ने इससे बचने के लिए गाड़ी पीछे मोड़ दी लेकिन गाड़ी एक गड्ढे में जा गिरी. भीड़ ने चारों को गाड़ी से बाहर निकालकर बुरी तरह पीटना शुरू कर दिया. बलाला ने यह भी कहा, मैं पीड़ितों से मिला जिनका कहना है कि घटनास्थल पर पुलिस आई लेकिन लोगों को पीटने से नहीं रोक पाई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi