विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

महाराष्ट्र में बिजली बिल पर राज ठाकरे की नाराजगी

मनसे ने बिजली बिल में गुजराती भाषा के इस्तेमाल करने पर एतराज जताया

Bhasha Updated On: Mar 02, 2017 09:00 PM IST

0
महाराष्ट्र में बिजली बिल पर राज ठाकरे की नाराजगी

हिंदी भाषियों के साथ राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) रवैया शुरू से खराब रहा है लेकिन अब उसका निशाना गुजराती भाषा है.

हुआ ये कि रिलायंस एनर्जी ने अपने ग्राहकों को गुजराती में बिजली बिल बांटे, जो राज ठाकरे की पार्टी को रास नहीं आई.

मनसे ने कंपनी को पत्र लिखकर मांग की है कि महाराष्ट्र की सरकारी भाषा मराठी है. लिहाजा बिजली बिल अंग्रेजी के अलावा सिर्फ इसी भाषा में जारी किया जा सकता है.

क्यों उठा भाषा का सवाल ?

मनसे उपाध्यक्ष नयन कदम ने यह भी साफ कर दिया कि बिजली कंपनी ऐसा कतई न सोचे कि बीजेपी के अधिक सीटें जीतने से भाषाई दबदबा स्वीकार कर लिया जाएगा.

रिलायंस एनर्जी के प्रवक्ता ने कहा, ‘2005 से ही हम अपने ग्राहकों को बिल चार भाषाओं में मराठी, हिंदी, अंग्रेजी और गुजराती उपलब्ध करा रहे हैं. हमने ब्रेल में भी बिल की भाषा का ऑप्शन दिया है. जो भी ग्राहक बिल में अपनी भाषा बदलना चाहता है वह हमारे कॉलसेंटर, ग्राहक देखभाल केंद्र, मोबाइल ऐप और वेबसाइट के जरिए आसानी से बदल सकता है.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi