S M L

#MeToo: लीगल एक्शन लेंगे एमजे अकबर, कहा-झूठ के पैर नहीं होते

एमजे अकबर ने अपना बयान जारी करते हुए कहा है कि वो यौन उत्पीड़न के आरोपों के खिलाफ लीगल एक्शन लेंगे.

Updated On: Oct 14, 2018 06:06 PM IST

FP Staff

0
#MeToo: लीगल एक्शन लेंगे एमजे अकबर, कहा-झूठ के पैर नहीं होते

#MeToo कैंपेन के तहत हाल ही में एक अमेरिकी महिला पत्रकार समेत 10 महिला पत्रकारों ने पत्रकार से राजनेता बने एमजे अकबर पर छेड़छाड़ और यौन शोषण के गंभीर आरोप लगाए हैं. जिसके बाद एमजे अकबर ने अपना बयान जारी करते हुए कहा है कि वो यौन उत्पीड़न के आरोपों के खिलाफ लीगल एक्शन लेंगे.

एमजे अकबर ने पहली बार #MeToo पर अपना बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि उनके खिलाफ लगे सभी आरोप झूठे और बेबुनियाद हैं. वो पहले इस मामले में नहीं बोल पाया क्योंकि वो विदेश के दौरे पर थे. एमजे अकबर का कहना है कि झूठ के पैर नहीं होते हैं लेकिन उनमें जहर होता है.

अकबर का कहना है, 'कई महिलाएं 20 साल पुरानी बातों का जिक्र कर रही हैं. वो अब तक क्यों चुप थीं. जिस वक्त उत्पीड़न हुआ तब क्यों किसी ने कुछ नहीं कहा. महिलाएं जिस समय का आरोप लगा रही हैं उसके बाद भी कई महिलाओं के साथ काम किया है. किसी ने अबतक शिकायत क्यों नहीं कराई. इसकी साफ वजह कि मैंने ऐसा कुछ भी नहीं किया है.'

वहीं एमजे अकबर ने इस अभियान की टाइमिंग को लेकर भी सवाल खड़े किए. अकबर का कहना है, 'यह लहर आम चुनाव से ठीक पहले उठने की क्या वजह है. क्या यह कोई एजेंडा है? आप जज हैं. ये झूठे और बेबुनियाद आरोप लगाए जा रहे हैं ताकि मेरी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया जा सके.'

एमजे अकबर ने कहा, 'बिना सबूत के आरोप लगाना वायरल फीवर की तरह बढ़ रहा है. जो भी मामला हो, अब मैं लौट आया हूं. मेरे वकील इस बेबुनियाद मामले की जांच कर रहे हैं और मैं इसके खिलाफ लीगल एक्शन लूंगा.'

उन्होंने कहा कि प्रिया रमानी ने एक साल पहले एक मैगजीन में लेख लिखकर यह कैंपेन शुरू किया था. तब उन्होंने मेरा नाम नहीं लिया था क्योंकि उन्हें पता था कि यह झूठी कहानी है. हाल ही में उनसे पूछा गया कि उन्होंने नाम क्यों नहीं लिया तो उन्होंने ट्वीट करके जवाब दिया था, 'उनका नाम कभी इसलिए नहीं लिया क्योंकि उन्होंने कुछ किया ही नहीं है.' अकबर का कहना है कि अगर उन्होंने कुछ नहीं किया तो ये कहानी क्या है ?

ये लगे आरोप

बता दें कि #MeToo कैंपेन के तहत एक अमेरिकी महिला पत्रकार समेत 10 महिला पत्रकारों ने पत्रकार से राजनेता बने एमजे अकबर पर छेड़छाड़ और यौन शोषण के आरोप लगाए हैं.

प्रिया रमानी नाम की एक महिला पत्रकार ने अपनी आपबीती बयां करते हुए कहा कि वर्षों पहले अकबर ने उन्हें मुंबई के एक आलीशान होटल के कमरे में नौकरी के इंटरव्यू के लिए बुलाया था. लेकिन उन्होंने उनकी नीयत को भांपते हुए वहां जाना मुनासिब नहीं समझा और इंटरव्यू ऑफर को ठुकरा दिया था.

आरोपों में कहा गया है कि एमजे अकबर ने यह काम तब किया जब वो अखबारों के संपादक के रूप में काम कर रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi