S M L

#MeToo: नंदिता दास के पिता पद्मभूषण पेंटर जतिन दास पर यौन उत्पीड़न का आरोप

दूसरे दिन उन्होंने मुझे अपने स्टूडियो में बुलाया था. उन्होंने मुझे जोर से बांहों में जकड़ लिया. जब मैंने उन्हे धक्का दिया तो दोबारा पकड़ लिया और किस किया

Updated On: Oct 17, 2018 01:31 PM IST

FP Staff

0
#MeToo: नंदिता दास के पिता पद्मभूषण पेंटर जतिन दास पर यौन उत्पीड़न का आरोप

#MeToo मूवमेंट बॉलीवुड के लिए रोज नए खुलासे लेकर आ रहा है. इस मूवमेंट ने इंडस्ट्री के कई चेहरों को बेनकाब कर दिया. इस मूवमेंट के जरिए फिल्म इंडस्ट्री में यौन शोषण और कास्ट‍िंग काउच के खिलाफ एक मजबूत आंदोलन खड़ा हो गया है.

बॉलीवुड की कई महिला फिल्मकारों ने इस मूवमेंट के साथ खड़े होकर एकजुटता दिखाई है. इसमें नंदिता दास का नाम सबसे ऊपर आता है. लेकिन अब खुद नंदिता दास के पिता और मशहूर पेंटर जतिन दास पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा है.

निशा बोरा द्वारा ये आरोप जतिन दास पर लगाए गए हैं. बोरा ने ट्व‍िटर पर एक पोस्ट शेयर करते हुए अपने साथ हुई घटना को बताया. उन्होंने लिखा- जतिन दास से मेरी मुलाकात 2004 में एक इवेंट के दौरान मेरे ससुर के माध्यम से दिल्ली में हुई थी. मैं उनकी बहुत बड़ी फैन थी. 

जतिन दास ने पहली मुलाकात के दौरान मुझे बतौर असिस्टेंट मुझे कुछ दिन उनके साथ काम करने के लिए कहा. मैं उनकी बहुत बड़ी फैन थी तो इस काम के लिए खुशी खुशी तैयार हो गई. हमारी पहली मीटिंग दिल्ली में उनके घर पर हुई, वहां सब सामान्य रहा. दूसरे दिन उन्होंने मुझे अपने स्टूडियो में बुलाया था. खिड़की गांव स्थित स्टूडियो में जतिन ने अपने लिए व्हिस्की का पैग बनाया था. उन्होंने मुझसे पूछा कि मैं लूंगी? मैंने इंकार कर दिया. इसके बाद उन्होंने मुझे जोर से बांहों में जकड़ लिया. जब मैंने उन्हे धक्का दिया तो दोबारा मुझे पकड़ लिया और किस किया.

नंदिता दास का फोन आया:

इस घटना के बाद मेरे पास नंदिता का फोन आया. नंदिता ने कहा कि मेरा नंबर उन्हें अपने पिता जतिन दास से मिला था. नंदिता मुझे बतौर असिस्टेंट काम पर रखना चाहती थीं. उन्होंने मेरी काफी तारीफ की. लेकिन उस वक्त नंदिता की सारी बातें मुझे अंदर तक चीर रही थीं. निशा ने कहा, मैं इस मूवमेंट से बहुत खुश हूं. इस मूवमेंट ने मुझे भी हिम्मत दी है. इसकी वजह से ही मैं आज अपने साथ हुए हादसे के बारे में पहली बार बोल सकी हूं.

क्या कहना है जतिन दास का?

जतिन दास का कहना है कि इन दिनों लोगों पर आरोप लगाने का खेल चल रहा है. ये आरोप वल्गर हैं. नंदिता दास ने भी पोस्ट लिखकर अपनी बात रखी है. उन्होंने कहा कि पिता पर ये आरोप लगने के बावजूद वह #MeToo मूवमेंट को सपोर्ट करती रहेंगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi