S M L

अकबर के मानहानि के मुकदमे से मैं डरने वाली नहीं: प्रिया रमानी

मुझे बहुत दुख है कि एक केंद्रीय मंत्री कई महिलाओं द्वारा लगाए गए आरोपों को एक राजनीतिक साजिश करार देकर उसे बेबुनियाद साबित कर रहा है

Updated On: Oct 15, 2018 08:53 PM IST

FP Staff

0
अकबर के मानहानि के मुकदमे से मैं डरने वाली नहीं: प्रिया रमानी
Loading...

केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर द्वारा उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि के आरोपों का जवाब देते हुए पत्रकार प्रिया रमानी ने कहा है कि वो उनका सामना करने के लिए तैयार हैं. उनके पास अपने बचाव के लिए सिर्फ उनकी सच्चाई ही है. लेकिन फिर भी वो अकबर के सामने खड़ी रहेंगी.

अकबर ने सोमवार को रमानी के खिलाफ दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में आपराधिक मानहानि का मामला दायर किया है. इसमें अकबर ने रमानी पर उन्हें 'जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण रूप से' बदनाम करने का आरोप लगाया गया है. अकबर पर रमानी के साथ 10 अन्य महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था.

अपने ट्विटर हैंडल पर लिखे एक नोट रमानी ने लिखा कि-

'पिछले दो हफ्ते बहुत ही उठा पटक वाले रहे हैं. विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली कई महिलाओं ने कार्यस्थलों पर अपने खिलाफ हुए यौन शोषण के बारे में बोला है. महिलाओं में अपने खिलाफ हुए शोषण के बारे में बाहर आकर बोलने की हिम्मत पिछले कुछ सालों में धीरे धीरे आए और लगातार बढ़ते महिला सशक्तिकरण की वजह से आई. साथ ही भारत सहित पूरे विश्व में सोशल मीडिया के जरिए फैले #MeToo मूवमेंट ने उन्हें हिम्मत दी.

एमजे अकबर के केस में पीड़ित महिलाओं के साथ जब शोषण हुआ तो वो उनके साथ काम कर रही थी. जिन भी महिलाओं ने अकबर के खिलाफ आवाज उठाई है उन्होंने अपनी निजी और पेशेवर जिंदगी के साथ बहुत बड़ा रिस्क लिया है. इस समय महिलाओं से ये पूछना कि वो इतने सालों बाद क्यों बोल रही हैं दरअसल उन्हें दबाने की कोशिश है. क्योंकि हम सभी जानते हैं कि अपने खिलाफ हुए यौन शोषण के बारे में जैसे ही कोई महिला आवाज उठाती है ये समाज उसे दोषी साबित करने लग जाता है. पीड़िता को ही अपराधी मानकर कठघरे में खड़ा कर देता है. इसलिए आज हमें उन महिलाओं के मकसद और टाइमिंग पर सवाल खड़ा न करके इस बात पर ध्यान देना चाहिए आने वाली पीढ़ी के महिला और पुरुष को हम क्या देकर जाएंगे.

एमजे अकबर पर 1 अमेरिकी समेत 10 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण और छेड़छाड़ के गंभीर आरोप लगाए हैं

एमजे अकबर पर 1 अमेरिकी समेत 10 महिला पत्रकारों ने यौन शोषण और छेड़छाड़ के गंभीर आरोप लगाए हैं

यही कारण है कि अकबर के हालिया बयान के खिलाफ मैं मजबूती से खड़ी होउंगी. अपने बयान में अकबर ने पीड़ित महिलाओं द्वारा भुगते गए सालों के दंश, उनके डर को सिरे खारिज कर दिया है. मुझे बहुत दुख है कि एक केंद्रीय मंत्री कई महिलाओं द्वारा लगाए गए आरोपों को एक राजनीतिक साजिश करार देकर उसे बेबुनियाद साबित कर रहा है.

मेरे खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करके अकबर ने अपना पक्ष साफ कर दिया है. कई महिलाओं द्वारा उनके खिलाफ लगाए आरोपों का जवाब देने के बजाए वो उन महिलाओं को डराकर और उनका मानसिक शोषण कर उन्हें चुप कराना चाहते हैं.

ये कहना बेकार है कि मैं उनके मानहानि के मुकदमे का सामना करने के लिए तैयार हूं. क्योंकि मेरा हथियार सच है. सिर्फ सच.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi