S M L

हज यात्रा पर निकला अनस, ढाई साल की उम्र में बनेगा हाजी

अनस के पिता मोहम्मद आलम ने कहा कि 'पहली बार मैंने हज यात्रा के लिए आवेदन किया था और मुझे पहली बार में ही मंजूरी मिल गई

FP Staff Updated On: Jul 15, 2018 06:58 PM IST

0

भारतीयों की इस साल की हज यात्रा शुरू हो गई है. पहला काफिला शनिवार को रवाना हुआ और अब हर दिन बड़ी संख्या में हज यात्री सऊदी अरब जाएंगे. पहले काफिले में ढाई साल का एक बच्चा भी शामिल था जो इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सबके आकर्षण का केंद्र बन गया था. अनस नाम का यह बच्चा अपने माता-पिता के साथ हज यात्रा पर गया है.

उत्तर प्रदेश के मेरठ का रहने वाले अनस बिन मोहम्मद आलम और उसके परिवार से न्यूज 18 की टीम ने बात की. इस दौरान बच्चे ने शरमाते हुए कहा कि वह हज के लिए जा रहा है, और उसे काफी अच्छा लग रहा है. बच्चे के माता-पिता भी काफी खुश नजर आए.

अनस के माता-पिता ने जताई खुशी

अनस के पिता मोहम्मद आलम ने कहा कि 'पहली बार मैंने हज यात्रा के लिए आवेदन किया था और मुझे पहली बार में ही मंजूरी मिल गई. इसलिए मुझे लगता है कि मैं खुशनसीब हूं.' उन्होंने कहा, 'अल्लाह ने हमें अपने घर बुलाया है और अब हम जा रहे हैं.' अनस की मां ने खुशी जाहिर की कि उनके छोटे से बेटे को भी उनके साथ हज पर जाने की इजाजत मिल गई. उन्होंने कहा, 'हमें बच्चे को लेकर कोई समस्या नहीं होगी, बल्कि मैं चाहती हूं और हम प्रार्थना करेंगे कि सभी हज यात्रियों को अपने बच्चों के साथ अल्लाह के घर जाने का मौका मिले.'

गौरतलब है कि हज यात्रा इस्लाम में फर्ज़ है. इस्लाम की नींव पांच चीजों पर है, जिसमें अल्लाह के घर की ज़ियारत (हज करना) भी शामिल है. हदीस में है कि जो इंसान हज कर लेता है और फिर कोई गलत काम नहीं करता तो उसे जन्नत नसीब होती है. जो मुसलमान आर्थिक रूप से सक्षम हैं उनके लिए हज अनिवार्य है

(निसार अहमद खां की न्यूज 18 के लिए रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi