S M L

3000 करोड़ के घोटाले से पाक साफ निकले बैंक ऑफ महाराष्ट्र के MD और ED, नौकरी पर वापस आए

3 हजार करोड़ के फर्जी लोन केस मामले में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर रवींद्र पी मराठे और एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर राजेंद्र गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया था. इनके खिलाफ सबूत न होने के बाद इन्हें बैंक ने वापस बहान कर लिया

Updated On: Nov 02, 2018 09:43 PM IST

FP Staff

0
3000 करोड़ के घोटाले से पाक साफ निकले बैंक ऑफ महाराष्ट्र के MD और ED, नौकरी पर वापस आए
Loading...

बैंक ऑफ महाराष्ट्र के एमडी रविंद्र मराठे और एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर राजेंद्र गुप्ता को अपने पदों पर वापस बहाल कर दिया गया है. दोनों को पुणे के एक बिल्डर को गलत तरीके से लोन देने के मामले में आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद दोनों को अपने बदों से हटा दिया गया था.

इसके साथ मामले की जांच कर रही पुलिस ने एफआईआर से रविंद्र मराठे और राजेंद्र गुप्ता का नाम भी हटाने के लिए आवेदन पत्र दिया है. पुलिस ने कहा है कि उनके खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं.

83 साल पुराने बैंक ऑफ महाराष्ट्र का हेडक्वार्टर पुणे में है और यह देश के प्रमुख सार्वजनिक बैंकों में से एक है. 3 हजार करोड़ के फर्जी लोन केस मामले में बैंक ऑफ महाराष्ट्र के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर रवींद्र पी मराठे को गिरफ्तार कर लिया गया था. इसके साथ ही EOW ने बैंक के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर राजेंद्र गुप्ता, अहमदाबाद से जोनल मैनेजर नित्यानंद देशपांडे और पूर्व सीएमडी सुशील मुहनोत को जयपुर से गिरफ्तार किया था.

पुणे में मेगा ग्रुप के मालिक डीएस कुलकर्णी और उनकी पत्नी हेमंती को फरवरी में 4 हजार इनवेस्टर्स के साथ 1150 करोड़ की धोखाधड़ी करने और बैंक लोन का 2900 करोड़ रुपए डायवर्ट करने की वजह से गिरफ्तार किया गया था.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi