S M L

2012 मारुति सुजुकी फैक्टरी हिंसा मामले में 31 दोषी, 117 बरी

दोषियों की सजा का एलान 17 मार्च को होगा

Updated On: Mar 10, 2017 07:05 PM IST

FP Staff

0
2012 मारुति सुजुकी फैक्टरी हिंसा मामले में 31 दोषी, 117 बरी

2012 में गुरुग्राम के मारुति सुजुकी फैक्टरी में हुई हिंसा में गुरुग्राम के ट्रायल कोर्ट ने शुक्रवार को अपना फैसला सुनाया. कोर्ट ने 31 आरोपियों को हिंसा करने का दोषी माना और 117 को बरी कर दिया है.

दोषियों की सजा का एलान 17 मार्च को होगा. मामले की सुनवाई जज आरपी गोयल कर रहे थे.

मजदूरों और मैनेजमेंट में विवाद 

2012 में मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के मानेसर स्थित प्लांट में मजदूरों और प्रबंधन के बीच विवाद हो गया था.

दरअसल कंपनी ने कम कीमत वाले कुछ अस्थायी मजदूरों की भर्ती कर ली थी, जिसके विरोध में कंपनी के स्थायी मजदूरों ने हड़ताल कर दिया था.

18 जुलाई 2012 को मजदूरों के प्रदर्शन के दौरान मारुति सुजुकी के जनरल मैनेजर अवनीश देव की मौत हो गई थी. प्रदर्शन करने वाले मजदूरों पर यह आरोप लगा था कि उन्होंने देव को जिंदा जलाकर मार दिया था.

इस हिंसा में कई लोग घायल भी हुए थे. घटना के बाद करीब 100 प्रबंधकों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा था. हिंसा के बाद मारुति के मानेसर प्लांट को एक महीने तक बंद रहा.

525 मजदूरों को कंपनी ने निकाला

मामले में 148 मजदूरों को गिरफ्तार किया गया था. जिसमें से 11 अभी भी जेल में हैं जबकि बाकियों को बेल पर रिहा कर दिया गया था. साथ ही कंपनी ने कार्रवाई करते हुए 525 मजदूरों को नौकरी से निकाल दिया था.

मारुति सुजुकी मजदूर यूनियन लगातार मजदूरों की रिहाई की मांग कर रही है. प्रशासन ने हालात को देखते हुए मारुति प्लांट और गुरुग्राम कोर्ट में सुरक्षा कड़ी कर दी है और दोनों जगहों पर धारा 144 लगा दी गई है.

अदालत का यह फैसला चार साल तक मुकदमा चलने के बाद आया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi