S M L

राजस्थान: आनंदपाल के एनकाउंटर पर हंगामा, एक शख्स की मौत

झड़प में नागौर के एसपी पारिस देशमुख भी घायल हुए हैं

Updated On: Jul 13, 2017 03:10 PM IST

FP Staff

0
राजस्थान: आनंदपाल के एनकाउंटर पर हंगामा, एक शख्स की मौत

गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर मामले में राजस्थान के नागौर में पुलिस और पब्लिक के बीच भिड़ंत हो गई. एनकाउंटर मामले की जांच को लेकर जनता प्रदर्शन कर रही थी. प्रदर्शनकारियों और पुलिस के साथ झड़प में एक शख्स की मौत हो गई है जबकि 20 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हो गए हैं. झड़प में नागौर के एसपी पारिस देशमुख भी घायल हुए हैं.

आनंदपाल के एनकाउंटर मामले की जांच सीबीआई से कराने सहित अन्य चार मांगों को लेकर नागौर के सांरवदा गांव राजपूत समाज के हजारों लोग जुटे हैं. कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह पिछले 24 जून को कथित पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था. परिवारवालों ने विरोध के तौर पर उसके शव का अब तक अंतिम संस्कार नहीं किया है.

राज्य के एडीजी (कानून एवं व्यवस्था) एन आर के रेड्डी के अनुसार श्रीकरणी राजपूत सेना ने विरोध के तौर पर कार रैली आयोजित की थी. रैली में लोग उत्तेजित होकर पथराव करने लगे जिसके बाद पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

पुलिस ने अांसू गैस के गोले छोड़कर भीड़ को तितर-बितर करने का प्रयास किया लेकिन वह हिंसा पर उतारू होने लगे, जिसके चलते पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

घायल पुलिसकर्मियों में से दो को नाजुक हालत में जयपुर के अस्पताल भेजा गया है जबकि शेष को नागौर के नजदीक अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. दो पुलिसकर्मी अभी लापता हैं जिनकी तेजी से तलाश की जा रही है.

पुलिस सूत्रों के अनुसार मृतक आनंदपाल सिंह के पैतृक गांव में श्रीराजपूत करणी सेना की ओर से आयोजित की गई हुंकार रैली और श्रद्वाजंलि सभा में जुटे हजारों लोगों में से कुछ लोगों ने दिल्ली-जोधपुर रेल मार्ग को जाम कर उसे श्रतिग्रस्त करना शुरू कर दिया था. पुलिस को उनको रोकने का प्रयास करने पर उनकी झड़प शुरू हो गई. उन्होंने बताया कि रेल मार्ग क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण दिल्ली-जोधपुर वाया रेवाड़ी मार्ग पर फिलहाल यातायात बाधित है.

पुलिस ने कहा कि सांरवदा गांव में स्थिति तनावपूर्ण है. भारी संख्या में पुलिस तैनात की गई है और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी स्थिति पर करीबी निगाहे बनाए हुए हैं.

उधर आनंदपाल सिंह का अन्तिम संस्कार कब होगा इसको लेकर असमंजस बना हुआ है. करीब डेढ़ साल की फरारी के बाद पुलिस मुठभेड़ में मारे गये कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह के परिजन मुठभेड़ पर सवाल उठा रहे हैं. वह मुठभेड़ की जांच सीबीआई से करवाने सहित चार अन्य मांगे पूरी न होने तक, आनंदपाल सिंह का अन्तिम संस्कार न करने पर अडिग हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi