S M L

जरूरत के मुताबिक मान-मनौव्वल, बल प्रयोग करते थे पटेल: मोदी

सरदार पटेल का कथन आज भी नए भारत के दृष्टिकोण के लिए प्रेरक है, यही कारण है कि उनका जन्मदिन ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है

Updated On: Oct 29, 2017 02:19 PM IST

Bhasha

0
जरूरत के मुताबिक मान-मनौव्वल, बल प्रयोग करते थे पटेल: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने आधुनिक अखंड भारत की नींव रखी. इसके लिए उन्होंने जरूरत के अनुसार, मान-मनौव्वल और बल प्रयोग किया. जटिल समस्याओं का व्यावहारिक हल निकाला.

रविवार को प्रधानमंत्री ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में सरदार पटेल का जिक्र करते हुए कहा कि देश की इस महान संतान की असाधारण यात्रा से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं.

मोदी ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल की विशेषता यह थी कि वो न सिर्फ परिवर्तनकारी विचार देते थे, बल्कि उनको अंजाम देने के लिए जटिल-से-जटिल समस्या का व्यावहारिक हल ढूंढने में भी सक्षम थे. विचारों को साकार करने में उनको महारत हासिल थी.

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने भारत को एक सूत्र में पिरोने की बागडोर संभाली. उनकी निर्णय क्षमता ने उन्हें सारी बाधाएं पार करने की सामर्थ्य दी.

मोदी के मुताबिक, सरदार पटेल ने कहा था 'जाति और पंथ का कोई भेद हमें रोक न सके, सभी भारत के बेटे और बेटियां हैं, हम सभी को अपने देश से प्यार करना चाहिए. साथ ही पारस्परिक प्रेम और सद्भावना पर अपनी नियति का निर्माण करना चाहिए.'

उन्होंने कहा कि सरदार पटेल का यह कथन आज भी हमारे नए भारत के दृष्टिकोण के लिए प्रेरक है, प्रासंगिक हैं. यही कारण है कि उनका जन्मदिन ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि 31 अक्तूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर देशभर में ‘रन फॉर यूनिटी’ का आयोजन किया जाएगा, जिसमें बच्चे, युवा, महिलाएं, सभी आयु-वर्ग के लोग शामिल होंगे. उन्होंने सभी लोगों से इसमें हिस्सा लेने की अपील की.

31 अक्टूबर को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि है. मोदी ने इसका जिक्र करते हुए कहा कि 31 अक्टूबर को इंदिरा गांधी यह दुनिया छोड़कर चली गई थीं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi