S M L

Mamata Vs CBI: बन चुका बड़ा राजनीतिक विवाद, अखिलेश से लेकर संजय राउत ने ट्विटर पर कही ऐसी बातें

नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला ने पश्चिम बंगाल में CBI मुद्दे पर कहा- ममता बनर्जी का आरोप सही है, यह देश तानाशाही बनने के खतरे में है, केंद्र सरकार इस देश का स्वामी नहीं हैं, लोग हैं

Updated On: Feb 04, 2019 12:41 PM IST

FP Staff

0
Mamata Vs CBI: बन चुका बड़ा राजनीतिक विवाद, अखिलेश से लेकर संजय राउत ने ट्विटर पर कही ऐसी बातें

सीबीआई और ममता बनर्जी के बीच शुरू हुई गहमागहमी अब बड़े राजनीतिक विवाद का रूप ले चुकी है. पार्टियां इसमें दो खेमों में बंटतीं नजर आ रही हैं. जहां एक तरफ कांग्रेस समेत ज्यादातर विपक्षी पार्टियां टीएमसी के समर्थन में हैं, वहीं बीजेपी ने सीबीआई की कार्रवाई का पुरजोर समर्थन किया है. ममता बनर्जी के इस धरने को लेकर विभिन्न पार्टियों के नेता अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं.

नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला ने पश्चिम बंगाल में CBI मुद्दे पर कहा- ममता बनर्जी का आरोप सही है. यह देश तानाशाही बनने के खतरे में है. केंद्र सरकार इस देश का स्वामी नहीं हैं, लोग हैं.

कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा- जिस दिन से बीजेपी केंद्र की सत्ता में आई है उन्होंने देश के लिए काम करने की ओर बहुत कम ध्यान दिया है लेकिन विपक्षी दलों को खत्म करने की दिशा में पिछले 5 सालों से उनका बहुत ध्यान रहा है. बीजेपी से ज्यादा भ्रष्ट कोई और पार्टी नहीं है.

एसपी प्रमुख अखिलेश यादव ने पश्चिम बंगाल में CBI मुद्दे पर कहा- पश्चिम बंगाल के अलावा अन्य राज्यों से भी इस तरह की बातें सुनी जाती हैं. चुनाव नजदीक आते ही बीजेपी और केंद्र सरकार ने सीबीआई का दुरुपयोग करना शुरू कर दिया है. मैं ही नहीं, समाजवादी पार्टी ही नहीं बल्कि सभी राजनीतिक दल यही कह रहे हैं. पहले केंद्र CBI निदेशक से डरता था, अब वे CBI का उपयोग करके सभी को डराने की कोशिश कर रहे हैं. संस्थानों का दुरुपयोग किसने किया? अगर किसी ने संस्थानों का राजनीतिकरण किया है तो वह बीजेपी है.

वहीं शिव सेना के संजय राउत ने कहा- यदि एक बड़े राज्य के सीएम, पश्चिम बंगाल की सीएम धरने पर बैठी हैं, तो यह एक गंभीर मामला है. क्या यह सीबीआई बनाम ममता बनर्जी या ममता बनर्जी बनाम बीजेपी है, हम जल्द ही पता लगाएंगे. यदि सीबीआई का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो यह राष्ट्र की गरिमा और एजेंसी (सीबीआई) की प्रतिष्ठा का मामला है.

टीएमसी के सौगत राय ने लोकसभा में कहा- पश्चिम बंगाल के सीएम द्वारा किया जा रहा सत्याग्रह, केंद्रीय सरकार द्वारा सीबीआई के दुरुपयोग के खिलाफ है. हम पीएम मोदी और अमित शाह के नेतृत्व वाले सीबीआई और बीजेपी नेतृत्व के खिलाफ कड़ा विरोध करते हैं जिन्होंने संवैधानिक ढांचे को नुकसान पहुंचाया है. पीएम को सदन में जवाब देना चाहिए.

वहीं बीजेपी के पी जावड़ेकर ने कहा- कोलकाता और पश्चिम बंगाल में जो कुछ भी हो रहा है वह एक तरह की समस्या है. इससे पहले कभी भी पुलिस द्वारा जांच दल को हिरासत में नहीं लिया गया था. यह लोकतंत्र की हत्या है. हम ममता बनर्जी से पूछना चाहते हैं कि वह धरना क्यों कर रही हैं, वह किसे ढाल बनाना चाहती हैं? पुलिस कमिश्नर या खुद को? ये ममता जी की इमरजेंसी है बंगाल में. हमारी नहीं है, ममता जी की है. विपक्षी दलों ने ममता बनर्जी का समर्थन किया है. ये लोग कौन हैं? वे जमानत पर बाहर हैं. ऐसे लोग साथ खड़े हैं. यह महागठबंधन नहीं है, वे दृष्टि से विभाजित हैं और भ्रष्टाचार से एकजुट हैं. भ्रष्टाचारी एक साथ खड़े हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi