S M L

CBI में घमासान: विपक्ष का मोदी सरकार पर हमला, ममता ने कहा- CBI अब BBI हो गई है

सीबीआई के शीर्ष अधिकारियों के बीच मची घमासान के बाद केंद्र सरकार ने दोनों अधिकारियों को छुट्टी पर भेज दिया है, सरकार के इस निर्णय पर विपक्षी दलों ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है

Updated On: Oct 24, 2018 12:56 PM IST

FP Staff

0
CBI में घमासान: विपक्ष का मोदी सरकार पर हमला, ममता ने कहा- CBI अब BBI हो गई है

सीबीआई में शीर्ष अधिकारियों के बीच जारी बड़ी जंग के बीच केंद्र सरकार ने बुधवार को इस मामले में दखल दिया. केंद्र सरकार ने सीबीआई चीफ आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया. आलोक वर्मा की जगह एम नागेश्वर राव को अंतरिम डायरेक्टर का कार्यभार सौंपा गया है. राव सीबीआई में अभी जॉइंट डायरेक्टर के तौर पर काम कर रहे थे.

वहीं बुधवार सुबह सीबीआई ऑफिस के 10वें और 11वें फ्लोर को सीज कर दिया गया. इन दोनों फ्लोर पर सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के ऑफिस हैं. कार्यभार संभालते ही नागेश्वर राव ने सीबीआई के मुख्यालय में दोनों फ्लोर को सीज कर दिया.

सीबीआई में मचे घमासान पर विपक्षी पार्टियों ने भी केंद्र सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सीबीआई डायरेक्टर को छुट्टी पर भेजने पर सवाल उठाया.

उन्होंने पूछा कि किस कानून के तहत मोदी सरकार ने एक जांच एजेंसी के प्रमुख के खिलाफ जांच की सिफारिश की, जिसकी नियुक्ति लोकपाल एक्ट के तहत की गई है. उन्होंने पूछा, आखिर किस बात को मोदी सरकार छुपाना चाहती है.

उन्होंने पूछा कि क्या राफेल डील और आलोक वर्मा के हटाने के बीच कोई संबंध है. केजरीवाल ने पूछा, क्या आलोक वर्मा राफेल डील की जांच शुरू करने वाले थे जो आगे चलकर मोदी जी के लिए समस्या खड़ी कर सकता था.

वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीबीआई को एक नया नाम दे दिया है. उन्होंने कहा कि सीबीआई अब बीबीआई हो गया है. बीबीआई का मतलब बीजेपी ब्यूरो ऑफ इंवेस्टिगेशन. उन्होंने कहा यह दुर्भाग्यपूर्ण है.

सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी ने कहा, मोदी सरकार ने खुद से चुने अधिकारी की रक्षा करने के लिए सीबीआई चीफ को अवैध रूप से हटा दिया है, जिसके खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों की जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के शीर्ष राजनीतिक नेतृत्व के सीधा संबंधों की रक्षा के लिए यह किया गया है.

उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई केग्ड पैरट न रहे इसके लिए एजेंसी के चीफ को सुरक्षा देने के साथ-साथ दो साल का कार्यकाल दिया था. मोदी सरकार जल्दबाजी में उठाए गए कदम से क्या छिपाने की कोशिश कर रही है.

दूसरी तरफ कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने सीधे पीएम मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी एक आपराधिक मामले की जांच के बीच में उसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकते.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi