S M L

महाराष्ट्र: किसान ने की आत्महत्या, मोदी सरकार को ठहराया दोषी

किसान ने लिखा, 'मेरे ऊपर कर्ज का बहुत बड़ा बोझ है, इसलिए मैं आत्महत्या कर रहा हूं. इसके लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है.'

FP Staff Updated On: Apr 11, 2018 10:22 AM IST

0
महाराष्ट्र: किसान ने की आत्महत्या, मोदी सरकार को ठहराया दोषी

महाराष्ट्र के एक किसान ने अपनी परेशानियों से तंग आकर आखिरकार मंगलवार को अपने खेतों में जहर खाकर आत्महत्या कर ली. उनके पास से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें उन्होंने मोदी सरकार को इसका जिम्मेदार ठहराया है.

यवतमाल के राजुरवडी गांव के 50 साल के शंकर भाऊराव छायरे ने मंगलवार को आत्महत्या कर ली. इस जिले में किसान बहुत ज्यादा प्रभावित हैं. शंकर भाउराव ने अपने इस सुसाइड नोट में मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए अपने परिवार के लिए मदद मांगी है.

मिली रिपोर्ट के अनुसार, निराश हो चुके शंकर भाउराव मंगलवार की सुबह अपने खेत पर गए और वहां उन्होंने एक पेड़ से रस्सी के सहारे लटककर आत्महत्या करने की कोशिश की लेकिन रस्सी टूट गई, जिसके बाद उन्होंने जहर पी लिया. कुछ लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

पुलिस ने शंकर भाऊराव के पास से 2 पेजों का सुसाइड नोट बरामद किया, जिसमें उन्होंने बताया था कि उनके पासे 9 एकड़ का खेत था, जिसमें उन्होंने कपास की खेती की थी. इसके लिए उन्होंने 90 हजार का लोन लोकल कोऑपरेटिव सोसाइटी से और एक प्राइवेट पार्टी से 30 हजार का लोन लिया था. लेकिन संक्रमण के कारण उनकी फसल बर्बाद हो गई और वो लोन नहीं चुका पाए. इस नोट में भाऊराव ने बताया कि उन्होंने कई सरकारी अधिकारियों, सांसदों, विधायकों, राज्य मंत्रियों से मदद मांगी लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की.

उन्होंने लिखा, 'मेरे ऊपर कर्ज का बहुत बड़ा बोझ है, इसलिए मैं आत्महत्या कर रहा हूं. इसके लिए मोदी सरकार जिम्मेदार है.'

इस घटना के 12 घंटे बाद परिवार ने वसंतराव नाइक मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल से अंतिम संस्कार के लिए मृतक का शव ले जाने से मना कर दिया. उनकी मांग थी कि या तो प्रधानमंत्री मोदी उनसे आकर मिलें और उनकी परेशानियों को समझे या फिर राज्य सरकार पूरा मुआवजा दे, तभी वो शव ले जाएंगे.

वसंतराव नाइक शेती स्वावलंबन मिशन के अध्यक्ष किशोर तिवारी ने घोषणा की कि बुधवार को पीड़ित परिवार से मिलने जाएंगे. उन्होंने कहा कि 'हम परिवार को तुरंत 10 लाख की रकम मुहैया कराएंगे. मृतक की पत्नी, तीन बेटियां और 1 बेटा है. हम उनकी शिक्षा का पूरा ख्याल रखेंगे और नौकरी देने की सूरत में नौकरी भी दिलवाएंगे.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi