S M L

मराठा आरक्षण आंदोलन पर आज बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई

मराठा क्रांति मोर्चा के लीडर की दाखिल की गई जनहित याचिका पर पहले 14 अगस्त को सुनवाई होनी तय थी लेकिन हाईकोर्ट ने बाद में इस पर 7 अगस्त को ही सुनवाई का फैसला किया

FP Staff Updated On: Aug 07, 2018 09:05 AM IST

0
मराठा आरक्षण आंदोलन पर आज बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई

मराठा आरक्षण आंदोलन के मसले पर आज यानी मंगलवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. मराठा क्रांति मोर्चा के लीडर विनोद पाटील की इसे लेकर हाईकोर्ट में दाखिल की गई जनहित याचिका पर पहले 14 अगस्त को सुनवाई होनी तय थी.

लेकिन जस्टिस रणजीत मोरे और अनुजा प्रभुदेसाई के खंडपीठ ने बाद में इस मामले को 7 अगस्त को सुनवाई का फैसला किया.

हाईकोर्ट ने पिछले दिनों मराठा आरक्षण के मसले पर राज्य की स्थिति को लेकर चिंता जताई थी. हाईकोर्ट ने कहा है कि राज्य की स्थिति इस वक्त बहुत गंभीर है. बसों में आग लगाई जा रही है और पुलिस पर पत्थराव किया जा रहा है. अदालत ने महाराष्ट्र सरकार के रवैये को लेकर नाखुशी जाहिर की है.

Bombay High Court

बॉम्बे हाई कोर्ट

फडणवीस ने प्रधानमंत्री से मिलकर इस मुद्दे पर चर्चा की

इससे पहले मंगलवार शाम को राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर उनके साथ जारी मराठा आंदोलन समेत राज्य से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की.

फडणवीस ने ट्वीट कर बताया कि भेंट के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री को महाराष्ट्र से जुड़े विभिन्न मुद्दों के बारे में बताया.

फडणवीस ने रविवार को कहा था कि मराठाओं को आरक्षण देने के लिए जरुरी सभी संवैधानिधक बाध्यताएं नवंबर महीने तक पूरी कर ली जाएंगी. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (एमएसबीसीसी) 7 अगस्त को बॉम्बे हाईकोर्ट को सूचित करेगा कि वो मराठा आंदोलन के बारे में अपनी रिपोर्ट कब सौंपेगा.

बता दें कि मराठा समाज सरकारी नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में 16 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर बीते 2 साल से आंदोलन कर रहा है. कांग्रेस के शासनकाल में मराठा आरक्षण को लेकर विधानसभा में एक बिल भी पास किया गया था. लेकिन उसके बाद महाराष्ट्र में 50 फीसदी आरक्षण की संवैधानिक लिमिट पार कर गई. इसके बाद यह मामला कोर्ट में जा पहुंचा और वहीं अटक गया.

पनवेल में प्रदर्शनकारियों ने मुंबई-गोवा हाइवे बंद कर दिया है. वहीं मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे ब्लॉक कर दिया गया है

मराठा आंदोलन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने जगह-जगह गाड़ियां रोक दी थीं और सरकारी संपत्तियों को काफी नुकसान पहुंचाया था

बीते 23 जुलाई को एक युवक की मौत के बाद मराठा आंदोलन हिंसक हो गया था. इसके बाद औरंगाबाद, कोल्हापुर, पुणे, नवी मुंबई, मुंबई समेत राज्य के कई जिलों में जमकर आगजनी और पथराव की घटनाएं हुई थीं.

मराठा आंदोलन की आग में अब तक कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई है.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi