S M L

AMBIS सिस्टम लागू होने से महाराष्ट्र में अपराध पर लगेगा लगाम: फडणवीस

इस प्रणाली की विशिष्टता यह है कि मोबाइल लाइव स्कैनर्स की मदद से पुलिस की एक गश्ती टीम घटनास्थल पर ही पता लगा सकेगी कि क्या संदिग्ध का पूर्व में कोई आपराधिक रिकॉर्ड रहा है या नहीं

Bhasha Updated On: Aug 12, 2018 02:08 PM IST

0
AMBIS सिस्टम लागू होने से महाराष्ट्र में अपराध पर लगेगा लगाम: फडणवीस

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है कि महाराष्ट्र सरकार एक बार अपनी महत्वाकांक्षी ऑटोमेटेड मल्टीमॉडल बॉयोमीट्रिक आइडेंटिफिकेशन सिस्टम (एएमबीआईएस) लागू करेगी तो राज्य में अपराध का पता लगाने में तेजी और दोष साबित करने की दर में बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी.

उन्होंने कहा कि प्रणाली की विशिष्टता यह है कि मोबाइल लाइव स्कैनर्स की मदद से पुलिस घटनास्थल पर ही पता लगा सकेगी कि क्या संदिग्ध का पूर्व में कोई आपराधिक रिकॉर्ड रहा है या नहीं.

फडणवीस ने कहा, 'घटनास्थल पर हमेशा की तरह फिंगर प्रिंट के जरिए अपराध का पता लगाने के अलावा इस प्रणाली से रेटिना स्कैन, लिखने वाले पैड, हथेली और यहां तक कि तलवों के स्कैन से 100 फीसदी सटीकता के साथ अपराधियों को पकड़ने में मदद मिलेगी. साथ ही यह जानकारी भी महज 0.46 मिलीसकेंड के भीतर मिल जाएगी.'

सहायक पुलिस निरीक्षक (साइबर) और बॉयोमीट्रिक्स विशेषज्ञ प्रसाद जोशी ने कहा कि सबूत के रूप में फिंगर प्रिंट को बहुत अधिक महत्व दिया जाता है और यदि यह उपलब्ध हो तो इसे अदालत में स्वीकार किया जाता है.

जोशी ने बताया, 'लेकिन 2012 में प्रणाली के ठप होने के बाद से सीआईडी हाथ से स्कैन करती है और घटनास्थल पर उपलब्ध फिंगर प्रिंट डाटा से 8 से 10 विभिन्न विशेषज्ञताओं से इसका मेल कराया जा रहा है. काम इतना अधिक है कि सीआईडी को अभी संग्रहित 6.50 लाख फिंगर प्रिंट डेटा की जांच करनी है.'

उन्होंने कहा कि राज्य फिंगर प्रिंट आंकड़ा राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी), अन्य राज्य सरकारों, अन्य जांच एजेंसियों, अदालतों, अपराध विशेषज्ञों और यहां तक की इंटरपोल और विदेशी जांच एजेंसियों के साथ साझा कर सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi