S M L

तूतीकोरिन हिंसा पर HC ने मांगा राज्य सरकार से जवाब, पूछा- क्यों बंद है इंटरनेट

सरकार ने कोर्ट को बताया था कि तुतीकोरिन में फिलहाल स्थिति सामान्य है, इस पर कोर्ट ने पूछा कि जब हालात सामान्य हैं तो फिर अबतक इंटरनेट क्यों बंद रखा गया है

Updated On: May 25, 2018 04:36 PM IST

FP Staff

0
तूतीकोरिन हिंसा पर HC ने मांगा राज्य सरकार से जवाब, पूछा- क्यों बंद है इंटरनेट

तमिलनाडु के तुतीकोरिन में स्टरलाइट प्लांट के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस की गोलीबारी में हुई 13 मौतों और शहर में इंटरनेट बंद करने के सरकार के फैसले पर मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु सरकार से जवाब मांगा है. सरकार ने कोर्ट को बताया था कि तुतीकोरिन में फिलहाल स्थिति सामान्य है. इस पर कोर्ट ने पूछा कि जब हालात सामान्य हैं तो फिर अबतक इंटरनेट क्यों बंद रखा गया है.

दूसरी तरफ, दिल्ली हाईकोर्ट ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) को याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व करने का निर्देश दिया है. याचिकाकर्ता ने स्टरलाइट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस गोलीबारी में 13 लोगों की मौतों की जांच के लिए आयोग से कहा था. एनएचआरसी ने तमिलनाडु के डीजीपी और मुख्य सचिव से जवाब तलब भी किया है.

वहीं पुलिस की गोली से प्रदर्शनकारियों की मौत के विरोध में डीएमके के नेतृत्व में विपक्षी पार्टियों ने शुक्रवार को प्रदेश बंद का आह्वान किया था. विपक्ष मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी के इस्तीफे की मांग कर रहा है.

सरकार के खिलाफ नारे लगाते और मुख्यमंत्री पलानीस्वामी के इस्तीफे की मांग करते हुए उन्होंने एग्मोरे, सैदापेट सहित कई स्थानों पर प्रदर्शन किया गया. चेन्नई के पूर्व मेयर और डीएमके नेता एम सुब्रमण्यम, पार्टी की राज्यसभा सदस्य कनिमोझी, वीसीके के प्रमुख थिरुमावलवन, एमएमके नेता एमएच जवाहिरुल्ला सहित कई नेता प्रदर्शन में शामिल हुए.

तूतीकोरिन में वेंदाता समूह के तांबे के स्टरलाइट प्लांट के खिलाफ स्थानीय लोगों ने मंगलवार को पर्यावरण और प्रदूषण संबंधी चिंता को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे. लोगों की मांग थी कि इस कारखाने को बंद किया जाए. स्थानीय लोगों को यह प्रदर्शन पिछले सौ दिनों से चल रहा था और 100वें दिन पुलिस ने अहिंसक भीड़ पर गोलीबारी कर दी जिसमें 13 लोगों की मौत हो गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi