S M L

मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में फैसला सुनाने के बाद जज ने दिया इस्तीफा

आज ही अपना फैसले में जज रेड्डी ने 5 आरोपियों को सबूतों के अभावों में बरी किया था

FP Staff Updated On: Apr 16, 2018 07:22 PM IST

0
मक्का मस्जिद ब्लास्ट मामले में फैसला सुनाने के बाद जज ने दिया इस्तीफा

हैदराबाद की मक्का मस्जिद में ब्लास्ट मामले का फैसला सुनाने वाले एनआईए कोर्ट के जज रविंदर रेड्डी ने इस्तीफा दे दिया है. खबर के मुताबिक जज ने इस मामले में व्यक्तिगत वजहों की बात कही है. गौरतलब है कि सोमवार को सुनाए गए फैसले में अदालत ने सभी पांच आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया.

18 मई 2007 को हुए इस ब्लास्ट में 9 लोग मारे गए थे, 54 घायल हुए थे. सभी पांच आरोपी देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद उर्फ नबा कुमार सरकार, भारत मोहनलाल रत्नेश्वर उर्फ भारत भाई और राजेंद्र चौधरी को कोर्ट ने बरी कर दिया. इन सभी का ट्रायल चला था. जज रेड्डी के इस्तीफे के बाद कई तरह की अटकलों का दौर शुरू हो गया है. असदुद्दीन ओवैसी ने इस बीच ट्वीट किया है.

स्थानीय पुलिस की शुरुआती जांच के बाद ये मामला सीबीआई को सौंप दिया गया. सीबीआई अधिकारियों ने 68 चश्मदीदों की गवाही दर्ज की थी. इनमें से 54 गवाह अब गवाही से मुकर गए हैं. सीबीआई ने आरोपपत्र भी दाखिल किया. बाद में अप्रैल 2011 में इस केस को एनआईए को सौंप दिया गया.

स्वामी असीमानंद एक पूर्व आरएसएस कार्यकर्ता थे. उन्हें मक्का मस्जिद विस्फोट के सिलसिले में 19 नवंबर, 2010 को गिरफ्तार किया गया था. उन्होंने लिखित तौर पर कहा था कि अभिनव भारत के कई सदस्यों ने मस्जिद में बम विस्फोट की साजिश रची थी. बाद में स्वामी असीमानंद को 23 मार्च 2017 को जमानत दे दी गई. असीमानंद को अजमेर ब्लास्ट केस में पहले से ही बरी कर दिया गया था. साथ ही मालेगांव और समझौता धमाके में भी उन्हें पहले ही जमानत दी जा चुकी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi