S M L

लखनऊ: कॉन्स्टेबल ने Apple के सेल्स मैनेजर को मारी गोली, गिरफ्तार

पुलिस ने विवेक को गाड़ी रोकने का इशारा किया था, जिस पर दोनों में झड़प हो गई थी, बात बढ़ने पर कॉन्स्टेबल ने विवेक पर गोली चला दी

Updated On: Sep 29, 2018 12:59 PM IST

FP Staff

0
लखनऊ: कॉन्स्टेबल ने Apple के सेल्स मैनेजर को मारी गोली, गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के वीआईपी इलाके में शुक्रवार रात एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने एक युवक को गोली मार दी. बता दें कि मरने वाले युवक की पहचान एपल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी के रूप में हुई है. सूत्रों की मानें तो विवेक आईफोन की लॉन्चिंग करके वापस घर लौट रहे थे. रास्ते में पुलिस ने उन्हें गाड़ी रोकने का इशारा किया. इस बात पर विवेक के साथ पुलिस कॉन्स्टेबल की थोड़ी झड़प हो गई. बात इतनी बढ़ी कि कॉन्स्टेबल ने विवेक पर गोली चला दी. एसएसपी के मुताबिक आरोपी कॉन्सटेबल को गिरफ्तार कर लिया गया है.

इस बीच आरोपी पुलिस कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी का बयान भी सामने आ गया है. उसने कहा कि उस समय रात के 2 बज रहे थे. सड़क के किनारे उसे एक कार खड़ी दिखाई दी जिसकी लाइट्स बंद थी. संदेह होने पर वह उस गाड़ी के करीब गया. गाड़ी के पास जाते ही कार को ड्राइव कर रहा व्यक्ति (विवेक तिवारी) जो से भागने लगा. कॉन्स्टेबल ने बताया- विवेक ने उसे कार से तीन बार मारने की कोशिश की. अपनी जान बचाने के लिए ही उस शख्स पर गोली चलानी पड़ी. वहीं विवेक के साथ गाड़ी में मौजूद उनकी सहकर्मी ने कहा कि वह इस हालत में नहीं है कि कुछ भी कह सकें. वह चाहती हैं कि दोषी को कड़ी सजा मिले. सच को छुपाने के लिए उन पर किसी तरह का कोई दवाब नहीं डाला गया है.

विवेक की पोस्टमर्टम रिपोर्ट भी सामने आ गई है और उसमें खुलासा हुआ है कि उसकी मौत सिर पर गोली लगने से ही हुई है. इस बात का पता चलते ही विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी ने पुलिस प्रशासन को घेरे में ले लिया है और इंसाफ की मांग की है. मृत विवेक की पत्नी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से गुहार लगाई है कि वह उनके घर आएं और उनसे बात करें. साथ ही पुलिस पर कड़ी कार्रवाई की जाए. पत्नी का आरोप है कि उसके पति को जानबूझकर गोली मारी गई है. अगर उसने कोई खराब काम किया था तो उसे पकड़ना चाहिए था न कि उसे गोली मार देनी चाहिए थी.

वहीं विवेक के साले ने भी सीएम से गुहार लगाई है कि इस मामले की सही तरीके से जांच की जाए. साथ ही उन्होंने इस मामले में सीबीआई जांच की भी मांग की है.

वहीं इस मामले पर लखनऊ के डिप्टी सीएम केपी मौर्य ने भी अपना बयान जारी किया है. उन्होंने कहा है कि मामले की जांच शुरू हो चुकी है. अगर किसी पुलिस कॉन्स्टेबल के हाथों किसी निर्दोष की जान गई है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी. दोषी को सख्त से सख्त सजा मिलेगी.

लखनऊ के एसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि विवेक के साथ उस समय गाड़ी में उनकी दोस्त और सहकर्मी सना खान भी मौजूद थीं. एसपी ने कहा कि गोमतीनगर थाने में आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है. उन्होंने बताया, 'शिकायतकर्ता सना खान बीते शुक्रवार रात को अपने सहकर्मी विवेक तिवारी के साथ घर जा रही थीं.

सना ने पुलिस को बताया कि सीएमएस गोमतीनगर के पास उनकी गाड़ी खड़ी थी तभी सामने से दो पुलिसवाले आए. उन्होंने जानबूझकर विवेक के साथ काफी बहस की जबकि विवेक की कोई गलती नहीं थी. दोनों ने पुलिस वालों से बचकर निकलने की कोशिश की. पुलिस ने बताया कि विवेक के साथ गाड़ी में मौजूद सहकर्मी सना का आरोप है कि कॉन्स्टेबल ने बाइक दौड़ाकर विवेक के गले में गोली मारी. सना की शिकायत पर ही हत्या का मामला दर्ज किया गया है.

घटनास्थल पर पहुंचे पुलिस अधिकारी

एसपी ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा, 'दो अन्य पुलिसवालों ने भी सना और विवेक को रोकने की कोशिश की थी पर वह नहीं रुके और गुस्से में कॉन्स्टेबल ने गोली चला दी. इसके बाद घबराकर उनकी कार अंडरपास के पिलर से टकरा गई और विवेक को गहरी चोट आई. पुलिस उसे अस्पताल ले गई जहां देर रात उसकी मौत हो गई.'

एसपी ने बताया कि मौके पर पुलिस अधिकारी पहुंचे और घटनास्थल का बारीकी से मुआयना किया. विवेक के शव को भी पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. चश्मदीदों के हवाले से एसपी ने बताया कि बच निकलने के चक्कर में विवेक की गाड़ी ने एक पुलिसवाले की मोटरसाइकल को भी टक्कर मारी थी. इसके बाद कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी ने एक गोली चलाई. बुलेट कार के विंड शील्ड को पार कर गई.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi