S M L

सैफुल्ला के आईएस से लिंक के नहीं मिले सबूत: यूपी पुलिस

सैफुल्लाह सहित उत्तर प्रदेश से अब तक गिरफ्तार सभी आरोपियों के आईएसआईएस से लिंक के सबूत नहीं मिले हैं

Updated On: Mar 09, 2017 07:48 AM IST

FP Staff

0
सैफुल्ला के आईएस से लिंक के नहीं मिले सबूत: यूपी पुलिस

राजधानी लखनऊ में करीब 12 घंटे चली मुठभेड़ के बाद मारे गए सैफुल्ला के संबंध में उत्तर प्रदेश पुलिस ने कई चौंकाने वाले तथ्य उजागर किए हैं.

पुलिस के अनुसार सैफुल्ला सहित उत्तर प्रदेश से अब तक गिरफ्तार सभी आरोपियों के आईएसआईएस से लिंक के सबूत नहीं मिले हैं.

शुरुआती जांच के हिसाब से ये स्वघोषित कट्टरपंथी हैं. जो खुद को आईएसआईएस खुरासान ग्रुप के तौर पर खुद को प्रचारित कर रहे थे.

लॉ एंड आर्डर के एडीजी दलजीत चौधरी ने बुधवार को लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस करते हुए बताया कि दूसरे राज्यों और केंद्रीय एजेंसियों से मिली सूचना के आधार पर लखनऊ, कानपुर सहित आसपास के इलाकों में कार्रवाई की गई.

इसमें एक व्यक्ति की मौत हुई है, जबकि तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, वहीं दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

एटीएस ने एक बुजुर्ग और भाई से कराई थी सैफुल्लाह की बात

उन्होंने बताया कि लखनऊ के घर में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी, जिसके बाद कार्रवाई की गई. आॅपरेशन में दूसरी तरफ से कई फायर किए गए. इधर जवाबी कार्रवाई में पहले हमने आरोपी को जिंदा पकड़ने की कोशिश की.

इस दौरान पड़ोस के एक बुजुर्ग से भी बात कराने की कोशिश की गई. यही नहीं कानपुर में सैफुल्लाह के भाई से भी उसकी बात फोन पर कराई गई लेकिन वह नहीं माना. आखिरकार देर रात जवाबी कार्रवाई में उसकी मौत हो गई.

अपने खर्च पर आतंकी हमले करने की थी योजना

दलजीत चौधरी ने बताया कि मौके से पुलिस को आठ पिस्टल, 600 से ज्यादा कारतूस, बम बनाने का सामान, पैलेट, टाइमर्स, तार आदि बरामद हुए हैं. यही नहीं सऊदी अरब की करेंसी रियाल के अलावा तीन पासपोर्ट मिले हैं. जिसमें से एक सैफुल्लाह का है, बाकी दो अन्य लोगों के हैं, जिसकी जांच की जा रही है.

उन्होंने बताया कि इसके अलावा उर्दू और अंग्रेजी में भी काफी साहित्य मिले हैं. एडीजी ने बताया कि मौके से पुलिस ने एक बाइक भी बरामद की है, जिसका नंबर कानपुर का है. आरटीओ से संपर्क कर उसके मालिक का पता लगाया जा रहा है.

saifullah

मारा गया आतंकी सैफुल्लाह (तस्वीर: पीटीआई)

शुरुआती जांच में पता चला है कि ये स्वघोषित कट्टरपंथी हैं, जिनका झुकाव आईएसआईएस की तरफ था.

आईएस से सीधे कोई लिंक अभी तक इनका नहीं मिला है. ये अपने पैसे जुटाकर बम आदि बनाने की कोशिश कर रहे थे. अभी तक ये किसी बड़ी घटना को अंजाम देने में सफल नहीं हो सकते थे.

भोपाल पैसेंजर बम ब्लास्ट के संदिग्ध भी यूपी से गिरफ्तार 

उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश में भोपाल-उज्जेैन पैसेंजर में हुए बम ब्लास्ट पर कार्यवाही करते हुए मध्य प्रदेश पुलिस ने यूपी के रहने वाले तीन संदिग्ध आतंकियों को पिपरिया से गिरफ्तार किया गया.

इनमें कानपुर की केडीए कॉलोनी का दानिश अख्तर, अलीगढ़ की इंदिरानगर का सैय्यद मीर हुसैन उर्फ हमजा और कानपुर के जाजमऊ का आतिश मुजफ्फर उर्फ अल कासिम शामिल हैं.

एजेंसियों से प्राप्त इनपुट के अनुसार उक्त गेैंग के अन्य सदस्यों के यूपी के कई जिलों में छिपे होने की सूचना मिली.

एडीजी ने बताया कि लखनऊ में सबसे पहले काकोरी थाना क्षेत्र के जिस मकान में सैफुल्ला उर्फ अली की लोकेशन मिली, वह मकान बादशाह खान का है, जो बाहर रहते हैं.

एटीएस जिंदा पकड़ना चाहती थी आतंकी को

सैफुल्लाह यहां किराए पर रहता था. लगभग 12 घंटे चली मुठभेड़ मे एटीएस द्वारा प्रयास किया गया कि सैफुल्ला को जीवित गिरफ्तार कर लिया जाए.

एटीएस टीम द्वारा संदिग्ध आतंकी को जिन्दा पकड़ने के उद्देश्य से छत एवं दीवार में छेद कर मिर्ची बम डाला गया लेकिन सैफुल्लाह द्वारा ताबडतोड़ फायरिंग की जाती रही.

आखिरकार बुधवार सुबह लगभग तीन बजे टीम दरवाजा काटकर अंदर घुसी और सामने-सामने हुई मुठभेड़ में सैफुल्लाह मारा गया.

ATS UP

उसके कमरे से 8 पिस्टल, 4 चाकू, 32 बोर के 630 जिन्दा कारतूस और 71 खोखा बरामद किया गया है. यही नहीं 45 ग्राम सोना, 3 मोबाइल फोन, बैकों की चेक बुक, एटीएम कार्ड, आतिफ मुजफ्फर के नाम का पैन कार्ड, 4 सिम कार्ड, एक बाइक डिस्कवर यूपी 78 सीपी/9704 बरामद की गई.

वहीं कानपुर एटीएस द्वारा कानपुर पुलिस के सहयोग से जाजमऊ थाना क्षेत्र से जेजे कालोनी के पास से दो युवकों को हिरासत में लिया गया. इनमें से एक मोहम्मद फैजल खां के पास से बरामद मोबाईल से प्रचार सामग्री पायी गई.

इसके बाद फैजल को गिरफ्तार कर लिया गया है, वहीं उसके भाई और दूसरे संदिग्ध युवक मोहम्मी इमरान उर्फ भाई जान से पूछताछ की जा रही है. अभी तक उसकी कोई संलिप्तता के सबूत नहीं मिले हैं.

इटावा में इसी माड्यूल के एक अन्य संदिग्ध आतंकी फखरे आलम उर्फ रिशु को गिरफ्तार किया गया है. उसके पास से एक पिस्टल बरामद हुई.

इस घटना के क्रम मे डीजीपी उत्तर प्रदेश की तरफ से पूरे प्रदेश में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है.

न्यूज 18 से साभार

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi