S M L

जिंदगी के 18 साल एक ऐसे क्राइम के लिए खो दिए जो मैंने कभी किया ही नहीं: सुहैब इलियासी

पूर्व टीवी एंकर तथा निर्माता सुहैब इलियासी ने कहा मैं पिछले 18 सालों से कह रहा था कि मैं निर्दोष हूं, अब जाकर कोर्ट ने मेरी बात सुनी

Updated On: Oct 08, 2018 05:40 PM IST

FP Staff

0
जिंदगी के 18 साल एक ऐसे क्राइम के लिए खो दिए जो मैंने कभी किया ही नहीं: सुहैब इलियासी

दिल्ली हाईकोर्ट ने 5 अक्टूबर 2018 को पूर्व टीवी एंकर तथा निर्माता सुहैब इलियासी को उनकी पत्नी अंजू की हत्या के आरोप से बरी कर दिया था. इससे पहले ट्रायल कोर्ट ने सुहैब इलियासी को दोषी करार देकर उम्रकैद की सजा सुनाई थी. आपको बता दें कि टीवी शो 'इंडियाज मोस्ट वॉन्टेड' के होस्ट सुहैब इलियासी को पत्नी की हत्या करने के 18 साल पुराने मामले में 16 दिसंबर 2017 को दोषी करार दिया गया था. इसके बाद सुहैब ने उसकी सजा के खिलाफ अपील दर्ज की थी. एनडीटीवी की खबर के मुताबिक सजा से बरी होने के बाद सुहैब इलियासी ने कहा- 'मैं पिछले 18 सालों से कह रहा था कि मैं निर्दोष हूं. अब जाकर कोर्ट ने मेरी बात सुनी.'

आत्म सम्मान और आत्मविश्वास के लिए कोई मुआवजा नहीं

सुहैब ने कहा- 'मैंने अपनी जिंदगी के 18 साल खो दिए. मेरे कीमती समय, एनर्जी, आत्म सम्मान और आत्मविश्वास के लिए कोई मुआवजा नहीं है. मेरे करियर का तो उल्लेख भी नहीं किया जा सकता.' भावुक होते हुए सुहैब ने कहा- 'मुझे इस बात पर अभी भी विश्वास नहीं हो रहा है कि मैं अब जेल से रिहा हो गया हूं. तिहाड़ जोल अह मेरा घर नहीं है. मैं अब अपने असली घर वापस लौट चुका हैं जहां मेरी बेटी आलिया मेरा इंतजार कर रही थी. मैं जेल में बैठकर अपनी आजादी का सपना देखता था. मुझे अभी भी यह सपना ही लग रहा है.' उन्होंने कहा कि ये 18 साल उनके लिए नर्क के समान था. उन्हें बस खुद पर यकीन था कि एक दिन वह अपनी बेटी से जरूर मिलेंगे और उसके साथ अपना समय बिताएंगे.

सुहैब ने कहा वह अपने 18 साल वापस नहीं ला सकते

सुहैब ने बताया- 'जेल में बैठकर मैं उपनिषद और भगवत गीता पढ़ता था. मैंने इनसे बहुत कुछ सीखा और मैं चाहता हूं कि लोग भी इन्हें पढ़ें और इससे कुछ सीखें.' टीवी के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा- पिछले कुछ सालों में जितने भी क्राइम इंवेस्टिगेशन शो आए मुझे उन सबकी खबर है. पहले इस तरह के शो दिखाना संभव नहीं होता था लेकिन अब समय बदल गया है. लोग इस तरह के प्रोग्राम देखना पसंद करते हैं.' सुहैब ने कहा कि भले ही वह अपने 18 साल वापस न ला सकते हों लेकिन आगे आने वाले समय को अच्छे से अपनी बेटी के साथ जीना चाहते हैं.

सुहैब के खिलाफ था दहेज के लिए प्रताड़ित करने का आरोप

दरअसल, 11 जनवरी, 2000 को सुहैब की पत्नी अंजू इलियासी की संदिग्ध परिस्थितयों में अस्पताल में मौत हो गई थी. उनके शरीर पर चाकू से वार किए जाने के कई निशान थे. शुरुआत में अंजू की मौत को सुसाइड समझा गया था लेकिन कुछ महीने बाद अंजू की मां और बहन ने एसडीएम के समक्ष बयान दिया कि सुहैब ने अंजू को आत्महत्या के लिए मजबूर किया था. इसके बाद सुहैब को शुरू में अपनी पत्नी को दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. हालांकि सुहैब ने अपने ऊपर लगे इस इल्जाम का पुरजोर विरोध किया था.

2014 में सुहैब पर चला था मर्डर केस

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह तय नहीं हो पाया कि अंजू ने आत्महत्या की थी या उनकी हत्या की गई थी. इस मामले में उस वक्त नया मोड़ आया था जब अंजू की मां ने मांग की थी कि सुहैब पर हत्या का मामला चलाया जाए. हालांकि ट्रायल कोर्ट ने उनकी इस मांग को खारिज कर दिया था लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने साल 2014 में निर्देश दिया कि सुहैब पर मर्डर का केस चलाया जाए. साल 2000 में 'इंडियाज मोस्ट वांटेड' शो को लेकर इलियासी का करियर ऊंचाइयों पर था. यह टीवी शो मोस्ट वॉन्टेड अपराधियों पर आधारित था और यह देश का इस तरह का पहला टीवी शो था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi