S M L

मुंबईः एलफिंस्टन ब्रिज हादसे की पहली बरसी, लोगों ने दी श्रद्धांजलि

29 सितंबर 2017 को एलफिंस्टन रोड स्टेशन पर फुट ओवर ब्रिज के गिरने से वहां मची भगदड़ में करीब 23 लोगों की मौत हो गई थी

Updated On: Sep 29, 2018 11:33 AM IST

FP Staff

0
मुंबईः एलफिंस्टन ब्रिज हादसे की पहली बरसी, लोगों ने दी श्रद्धांजलि

पिछले वर्ष आज ही के दिन एलफिंस्टन रोड स्टेशन पर हुए दर्दनाक हादसे को आज एक साल पूरा हो गया है. स्थानीय लोगों ने इस भयानक हादसे को याद करते हुए इसकी पहली सालगिरह पर भगदड़ में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की. आपको बता दें कि 29 सितंबर, 2017 को एलफिंस्टन रोड स्टेशन पर फुट ओवर ब्रिज के गिरने से वहां मची भगदड़ में करीब 23 लोगों की मौत हो गई थी. इसके बाद फरवरी 2018 में भारतीय सेना ने वहां पर एक नए फुट ओवर ब्रिज का निर्माण करवाया था.

भगदड़ में 23 लोगों की हुई थी मौत

बता दें कि मुंबई में परेल-एलफिंस्टन स्टेशन के पास बने पुल पर ज्यादा भीड़ की वजह से भगदड़ मच गई थी जिससे एक बड़ा हादसा हो गया था. हादसे में करीब 23 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. हादसे के बाद बताया जा रहा था कि इस पुल पर बढ़ते बोझ की शिकायत बहुत पुरानी थी और यह शक भी था कि कोई हादसा कभी भी हो सकता है. हादसे के दिन भारी बारिश के बीच भीड़ एक साथ आई और पुल पर भगदड़ मच गई थी. दरअसल यह पुल एल्फिंस्टन रोड और परेल उपनगरीय रेलवे स्टेशनों को जोड़ता था. बारिश से बचने के लिए बड़ी संख्या में लोग इस पर जमा हो गए थे.

रेलवे स्टेशनों को सुधारने की चली थी मीटिंग

बता दें कि लाखों लोग उस इलाके में स्थित कॉरपोरेट और मीडिया कार्यालयों के साथ ही व्यावसायिक केंद्रों तक पहुंचने के लिए इस पुल का उपयोग करते थे.भगदड़ में कई लोगों की मौत दम घुटने के कारण भी हो गई थी. वहीं नीचे प्लेटफार्म पर खड़े लोग बेबस होकर हादसा देख रहे थे. कई लोगों ने रेलिंग पर चढ़कर अपनी जान बचाने की कोशिश भी की थी.पिछले वर्ष हादसे के दूसरे दिन ही रेलमंत्री की अध्यक्षता में दस घंटे की मैराथन मीटिंग चली थी. इस दौरान रेलवे स्टेशनों पर रास्ते सुगम बनाने के अलावा स्टेशन परिसरों के बाहर से हॉकर्स हटाने पर भी सहमति बनी थी लेकिन एक साल बाद भी स्टेशनों के बाहर वही हाल है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi