S M L

दिल्ली के 10 गुरुद्वारों का लंगर है पौष्टिक, सभी मापदंडों पर खरे उतरे

एक हफ्ते में करीब 1,00,000 श्रद्धालु DSGMC के नियंत्रित गुरुद्वारों में प्रसाद खाते हैं, वहीं त्यौहारों पर- होली, बैसाखी और गुरुपर्व पर यह संख्या 5,00,000 हो जाती है

Updated On: Jun 17, 2018 03:36 PM IST

FP Staff

0
दिल्ली के 10 गुरुद्वारों का लंगर है पौष्टिक, सभी मापदंडों पर खरे उतरे
Loading...

दिल्ली की दस मुख्य गुरुद्वारों की कम्युनिटी किचन ने हेल्थी फूड बनाने के लिए एक कठोर सेट, स्वच्छता, गुणवत्ता में सुधार के लिए अपनी तैयारी पूरी कर ली है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, दिल्ली सिख गुरुद्वारा मेनेजमेंट कमेटी (DSGMC) के प्रेसिडेंट मनजीत सिंह ने कहा 'यह किचन सिद्धांतों पर लंगर बांटने के लिए जानी जाती है और यह किचन लोगों को पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराती है. यहां बिना किसी जाति-धर्म के भेदभाव के लंगर श्रद्धालुओं को लंगर परोसा जाता है.'

उन्होने कहा कि DSGMC ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के FSSAI प्रोजेक्ट BHOG (भगवान को खिलाए जाने वाला भोजन) के तहत निर्धारित मानकों को भी पार कर लिया है. सिख संगत दिल्ली में सभी गुरुद्वारों में सुरक्षित, पौष्टिक और स्वच्छ लंगर खिलाती है.

प्रोजक्ट पिछले साल देश की उच्च फूड रेगुलेटरी द्वारा लॉन्च किया गया था. यह सेफ और पौष्टिक खान की जांच करने वाली योजनाओं में से एक थी.

एक हफ्ते में करीब 1,00,000 श्रद्धालु DSGMC के नियंत्रित गुरुद्वारों में प्रसाद खाते हैं, वहीं त्यौहारों पर- होली, बैसाखी और गुरुपर्व पर यह संख्या 5,00,000 हो जाती है.

इसमें प्रसाद के रूप में आमतौर पर चपाती, दाल, सब्जी और खीर परोसी जाती है. यहां ऐसे लोगों को भोजन परोसा जाता है जो पूर्णरूप से इस खाने पर डिपेंड हैं, यह बिल्कुल घर का खाना होता है.

सिंह ने कहा 'ताजी सब्जियों को सीधा आजादपुर मंडी से खरीदा जाता है. भोजन बनाने वाले लोगों को दस्ताने और सिर ढकने के लिए भी पगड़ी दी जाती है. जिससे कि खाने की गुणवत्ता को अच्छा बनाने में मदद मिले.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi