S M L

मुश्किल में मीसा: बेनामी संपति मामले में आईटी ने फाइनल अटैचमेंट ऑर्डर किया जारी

मीसा समेत उनके पति शैलेश पर भी फर्जी कंपनियों से पैसे जुटाने का आरोप है

Updated On: Sep 11, 2017 06:04 PM IST

FP Staff

0
मुश्किल में मीसा: बेनामी संपति मामले में आईटी ने फाइनल अटैचमेंट ऑर्डर किया जारी

एक तरफ जहां लालू यादव हर दिन नीतीश कुमार पर जुबानी हमले कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ उनकी मुश्किलें भी हर दिन बढ़ती ही जा रही है. सोमवार को दोपहर आयकर विभाग ने उनकी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार के बेनामी संपति मामले में फाइनल अटैचमेंट ऑर्डर जारी किया है.

मीसा समेत उनके पति पर भी फर्जी कंपनियों से पैसे जुटाने का आरोप है. जुलाई में मनि लॉड्रिंग के केस में ईडी ने मीसा भारती के तीन ठिकानों पर छापेमारी की थी. द‌िल्ली के ब‌िजवासन स्थ‌ित मीसा भारती के फार्म हाउस को ईडी ने अटैच कर दिया था.
पालम में बने फॉर्म हाउस नंबर 26 में भी छापेमारी हुई थी. इसकी बेनिफीशियल ओनर मीसा भारती और उनके पति शैलेश हैं. इस फार्म हाउस की कागजों में कीमत 1.41 करोड़ रुपये है, वहीं संपत्ति की बाजार में कीमत 40 करोड़ रुपए की है.
ये है पूरा मामला 
मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने मीसा भारती के बिजवासन इलाके स्थित फॉर्म हाउस को अटैच किया. यह फॉर्म हाउस मीसा और उनके पति शैलेश का है. गौरतलब है कि ईडी मीसा और शैलेश के जवाबों से संतुष्ट नहीं है. यह फार्म हाउस शैल कंपनियों के जरिए आए धन से खरीदा गया था.
ईडी का मानना है कि 800 करोड़ रुपए के काले धन को फर्जी कंपनियां (शैल कंपनी) बनाकर व्हाइट मनी में बदला गया है.
चार कंपनियों के जरिए 1 करोड़ 20 लाख रुपए आए थे. इसी पैसे से यह खरीद हुई. साल 2008-09 में शैल कंपनियों के जरिए पैसा आया था जब लालू यादव रेलमंत्री थे. इस मामले में जांच की आंच लालू तक भी पहुंच सकती है. सीबीआई और ईडी इस मामले में जांच कर रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi