S M L

'उड़ानें रद्द करने में इंडिगो एयरलाइंस सबसे आगे, एयर इंडिया दूसरे स्थान पर'

सरकार द्वारा ही जारी आंकड़ों के अनुसार साल 2017 में इंडिगो ने 1934 उड़ानें रद्द की थी. जिससे 52, 489 यात्री परेशान हुए थे. उस वर्ष भी क्षतिपूर्ति के नाम पर यात्रियों को केवल 5 लाख रुपए दिए गए

Updated On: Jul 29, 2018 06:55 PM IST

Bhasha

0
'उड़ानें रद्द करने में इंडिगो एयरलाइंस सबसे आगे, एयर इंडिया दूसरे स्थान पर'

एयरलाइन कंपनियों द्वारा यात्रियों की फ्लाइट कैंसल करने में इंडिगो एयरलाइंस सबसे आगे है. लोकसभा में मॉनसून सत्र के दौरान एक सवाल के जवाब में नागरिक उड्ड्यन मंत्रालय के जारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2018 के पहले पांच महीने यानी कि मई तक इस एयरलाइन कंपनी ने 1824 उड़ानें रद्द की हैं.

कंपनी द्वारा इतने बड़े पैमाने पर उड़ानें रद्द किए जाने से 1.08 लाख से अधिक यात्री प्रभावित हुए हैं. वहीं यात्रियों की क्षतिपूर्ति के नाम पर कंपनी ने केवल साढ़े चार लाख रुपए ही जारी किए.

इतनी बड़ी मात्रा में फ्लाइट कैंसल किए जाने के पीछे के कारण पर इंडिगो के एक प्रवक्ता ने कहा कि जनवरी से मई तक उड़ानों के रद्द होने का कारण निओ विमानों का सेवा में न होना, आपूर्ति में देरी और देश के विभिन्न हिस्सों में अलग अलग समय पर खराब मौसम रहा है.

सरकार द्वारा ही जारी आंकड़ों के अनुसार साल 2017 में इंडिगो ने 1934 उड़ानें रद्द की थी. जिससे कि 52, 489 यात्री परेशान हुए थे. उस वर्ष भी क्षतिपूर्ति के नाम पर यात्रियों को केवल 5 लाख रुपए दिए गए.

नागरिक उड्ड्यन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने इसी सिलसिले में लोकसभा में उठे एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि एयरलाइंस कंपनियों के फ्लाइट में देरी, कैंसिलेशन या बोर्डिंग से मनाही करने पर यात्रियों को क्षतिपूर्ति देना आवश्यक है. वहीं समय से 6 घंटे से ज्यादा की देरी होने पर कंपनियों को यात्रियों को पूरा किराया वापस करना होगा. उन्होंने बताया कि अगर फ्लाइट बुकिंग के 24 घंटे के भीतर यात्री टिकट कैंसल कर देते हैं, तो उन्हें इसके लिए कोई कैंसिलेशन चार्ज नहीं देना होगा.

बता दें कि इंडिगो के बाद एयरलाइन कंपनियों द्वारा यात्रियों के सबसे अधिक फ्लाइट कैंसल करने में  एयर इंडिया दूसरे स्थान पर है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi