S M L

किसान आंदोलन के नाम पर अराजकता, लूटपाट

आंदोलन के चलते जयपुर की मंडियों में सब्जियों की करीब 20 प्रतिशत आवक कम हुई

FP Staff Updated On: Jun 03, 2018 03:59 PM IST

0
किसान आंदोलन के नाम पर अराजकता, लूटपाट

प्रदेश में किसान आंदोलन से प्रभावित बीकानेर संभाग में अब अराजकता फैलने लग गयी है. आंदोलन के तीसरे दिन रविवार को बीकानेर के छतरगढ़ इलाकों में कुछ युवकों ने सब्जी मंडी में लूट खसोट कर जमकर उत्पात मचाया. वहीं श्रीगंगानगर जिले में राहगीरों से बदसलूकी और झड़प की घटनाएं हुई.

किसानों के विरोध के चलते जयपुर समेत कई इलाकों में सब्जियों के साथ ही दूध की आवक भी कम हो गई है. इससे इनके भावों में भी जबर्दस्त उछाल आ गया है. हिंसक घटनाओं को देखते हुए निजी डेयरियों ने दूध कलेक्शन बंद कर दिया है. झड़प की घटनाओें को लेकर शनिवार को अलग-अलग थानों में तीन एफआईआर दर्ज हुई है.

सब्जी मंडी में लूट खसोट

बीकानेर के छतरगढ़ कस्बे में पिकअप में सवार कुछ युवकों ने सब्जी मंडी की दुकानों में लूट खसोट कर जमकर उत्पात मचाया. बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने युवकों को खदेड़ा. पुलिस ने 10 उत्पाती युवकों को गिरफ्तार कर 6 पिकअप जब्त की है. लूणकरणसर में आंदोलनकारी सब्जी मंडी में बोली रुकवाने के लिए पहुंच गए. इससे व्यापारियों और किसानों में कहासुनी हो गई. आंदोलनकारियों ने किसानों की लाई हुई सब्जियां फेंकने का प्रयास किया. सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थिति संभाली. महाजन के जैतपुरा में किसानों ने सड़क पर ट्रकों के आगे लेटकर कर अपना विरोध जताया.

श्रीगंगानगर में किसान खुद ही अपनी सब्जी और दूध बेच रहे हैं. कई जगह किसानों की लोगों से कहासुनी हुई. रायसिंहनगर में आंदोलन के नाम असमाजिक तत्व हावी होने लग गए. भोमपुरा गांव में पिकअप में ले जाया जा रहा दूध सड़क पर बिखेर दिया गया. आने-जाने वाले वाहन चालकों के साथ बदसलूकी की गई.

आंदोलन के चलते जयपुर की मंडियों में सब्जियों की करीब 20 प्रतिशत आवक कम हुई. डेयरियों में भी दूध की आवक कम हो रही है. रिस्क के चलते प्राइवेट डेयरियों ने दूध कलेक्शन बंद कर दिया. वहीं नुकसान के बावजूद जयपुर डेयरी दूध संकलन कर रही है. शनिवार रात को डेयरी का 2100 लीटर दूध बहा दिया गया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi