S M L

केरल: बाढ़ के बाद अब मकानों, सार्वजनिक स्थलों की साफ-सफाई पर ध्यान

राज्य के मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्यादातर फंसे लोगों को निकाल लिया गया है और अब दूर दराज के मकानों में तलाश की जाएगी कि कहीं कोई फंसा तो नहीं है

Updated On: Aug 22, 2018 03:48 PM IST

Bhasha

0
केरल: बाढ़ के बाद अब मकानों, सार्वजनिक स्थलों की साफ-सफाई पर ध्यान

केरल में बाढ़ग्रस्त जगहों पर फंसे लोगों को बचाने का काम अब लगभग खत्म होने वाला है. ऐसे में केरल सरकार ने अपना पूरा ध्यान मकानों और सार्वजनिक स्थानों की सफाई पर केंद्रित कर दिया है.

आपदा प्रबंधन राज्य नियंत्रण कक्ष के अनुसार 8 अगस्त से बाढ़ से जुड़ी घटनाओं में अब तक 231 लोगों की मौत हो चुकी है और 32 लोग लापता हैं. वहीं राज्य भर के 3,879 राहत शिविरों में 3.91 लाख परिवारों के कम से कम 14.50 लाख लोग रह रहे हैं.

बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित अर्णाकुलम जिले में 850 राहत शिविरों में 5.32 लाख लोग रह रहे हैं. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि स्वास्थ्य और स्थानीय स्व-सरकारी विभाग के तहत 3 हजार से अधिक दस्तों ने मकानों और सार्वजनिक स्थानों की सफाई का काम शुरू कर दिया है.

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कहा कि ज्यादातर फंसे लोगों को निकाल लिया गया है और अब दूर दराज के मकानों में तलाश की जाएगी कि कहीं कोई फंसा तो नहीं है.

भारतीय वायु सेना के जवानों ने मंगलवार को 15 लोगों को बचाया इनमें 11 वो लोग भी शामिल हैं जो पलक्कड़ जिले में भूस्खलन से अलग थलग पड़े नेल्लियमपाथी में फंसे हुए थे.

अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को 12 हजार घरों की सफाई का काम पूरा हो चुका है. इस बीच मुस्लिम युवकों के एक समूह ने मिसाल पेश करते हुए मलप्पुरम और वायनाड जिलों में मंदिरों की सफाई की.

राज्य सरकार ने मनरेगा और केंद्र की योजनाओं के तहत 2600 करोड़ की राहत राशि की मांग की है. इस बीच संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने राज्य के पुनर्निर्माण कार्य के लिए 700 करोड़ रुपए की सहायता की पेशकश की है. हालांकि ऐसी खबरें हैं कि सरकार ने मदद का हाथ बढ़ाने के लिए वहां की सरकार का धन्यवाद करते हुए इसे ठुकरा दिया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi