S M L

कठुआ कांड: सुप्रीम कोर्ट का आदेश आरोपियों को कठुआ से गुरदासपुर ट्रांसफर किया जाए

सुप्रीम कोर्ट ने कहा इस मामले पर पठानकोट की जिला एवं सत्र अदालत में सुनवाई के दौरान अभियोजकों के अलावा सिर्फ आरोपियों के वकील ही कक्ष में मौजूद होंगे

Updated On: Jul 09, 2018 08:53 PM IST

FP Staff

0
कठुआ कांड: सुप्रीम कोर्ट का आदेश आरोपियों को कठुआ से गुरदासपुर ट्रांसफर किया जाए
Loading...

सुप्रीम कोर्ट ने कठुआ बलात्कार और हत्या कांड के आरोपियों को पंजाब की गुरदासपुर जेल में स्थानांतरित करने का आदेश दिया है. सोमवार को कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार को आदेश देते हुए कहा कि आरोपियों को कठुआ जिला जेल से गुरदासपुर स्थानांतरित किया जाए.

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदु मल्होत्रा की पीठ ने जम्मू कश्मीर पुलिस को आठ सप्ताह के भीतर इस मामले में पूरक आरोप पत्र दायर करने का निर्देश भी दिया. अदालत ने इस मामले में निचली अदालत के आदेश से असंतुष्ठ महसूस करने वाले पक्षों को पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर करने की छूट दी.

इसी के साथ पीठ ने पंजाब और जम्मू कश्मीर पुलिस को निर्देश दिया कि इस मामले की सुनवाई कर रही निचली अदालत के जज और विशेष लोक अभियोजक को सुरक्षा प्रदान की जाए.

आरोपियों के वकील, अभियोजक ही सुनवाई के दौरान अदालत में होंगे

सुप्रीम कोर्ट ने कहा इस मामले पर पठानकोट की जिला एवं सत्र अदालत में सुनवाई के दौरान अभियोजकों के अलावा सिर्फ आरोपियों के वकील ही कक्ष में मौजूद होंगे. चीफ जस्टिस दीपक मिश्र की अध्यक्षता वाली पीठ को जम्मू कश्मीर के वकील ने अदालत कक्ष में आरोपियों के साथ कई वकीलों के मौजूद रहने के बारे में जानकारी दी. इसके बाद न्यायालय ने यह निर्देश दिया.

वरिष्ठ वकील शेखर नफाडे और स्थायी वकील शोएब आलम ने आरोप लगाया कि आरोपियों की ओर से भारी संख्या में वकीलों की उपस्थिति से निष्पक्ष सुनवाई में बाधा आ सकती है. उन्होंने कहा कि एक बार, मामले में आरोपियों के बचाव के लिए करीब 50 वकील अदालत कक्ष में मौजूद थे. सुप्रीम कोर्ट ने अदालत को बंद कमरे में सुनवाई करने का निर्देश दिया. जिसमें आरोपियों के वकील, विशेष लोक अभियोजक, लोक अभियोजक और अदालत के कर्मचारी ही मौजूद रहेंगे.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi