S M L

कासगंजः चंदन हत्या मामले के एक आरोपी ने किया आत्मसमर्पण

एसपी पीयूष श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी आसिफ ने एक स्थानीय अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया है, अब पुलिस उसे रिमांड पर लेने का प्रयास कर आगे की पूछताछ करेगी

Bhasha Updated On: Feb 09, 2018 10:52 AM IST

0
कासगंजः चंदन हत्या मामले के एक आरोपी ने किया आत्मसमर्पण

गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुई चंदन गुप्ता की हत्या के मामले के एक आरोपी ने गुरुवार को अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया.

पुलिस अधीक्षक (एसपी) पीयूष श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी आसिफ ने एक स्थानीय अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया है. अब पुलिस उसे रिमांड पर लेने का प्रयास कर आगे की पूछताछ करेगी. श्रीवास्तव ने बताया कि आसिफ चंदन की हत्या के बाद से ही अपने घर से फरार था. पुलिस उसकी तलाश में संभावित जगहों पर लगातार छापेमारी कर रही थी.

कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान हुई हिंसा में फायरिंग से चन्दन की मौत हो गई थी. चंदन हत्या मामले के दो आरोपियों को पुलिस ने बुधवार को पकड़ा था.

श्रीवास्तव ने बताया कि चंदन हत्या मामले के दो आरोपी वसीम और नसीम को बुधवार को दो तमंचों और कुछ कारतूस सहित गिरफ्तार किया गया है. ये दोनों मुख्य आरोपी सलीम के सगे भाई हैं.

अब तक इस मामले में 55 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है

श्रीवास्तव ने बताया कि हत्या मामले के मुख्य आरोपी सलीम को पुलिस ने 31 जनवरी को ही गिरफ्तार कर लिया था और उसकी निशानदेही पर एक तमंचा बरामद किया था. इसी मामले के आरोपी राहत कुरैशी को तीन फरवरी को पुलिस ने काशीराम कॉलोनी से गिरफ्तार किया था.

उन्होंने बताया कि मामले के एक अन्य आरोपी सलमान को पुलिस ने छह फरवरी को किसरौली रोड से गिरफ्तार किया था. कासगंज हिंसा के संबंध में दर्ज 18 मामलों में अब तक 55 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

वहीं, जिलाधिकारी आरपी सिंह के निर्देश पर मुख्य आरोपी के नाम जारी दो हथियार के लाइसेंस को निरस्त कर दिया गया. सिंह ने बताया कि दो हथियारों, एक रिवाल्वर और एक डीबीबीएल गन के लाइसेंस सलीम के नाम पर थे जो रद्द कर दिए गए हैं. ये भी जांच की जा रही है कि इन दो हथियारों का इस्तेमाल उक्त घटना में किया गया था या नहीं.

कासगंज में गणतंत्र दिवस के मौके पर भड़की सांप्रदायिक हिंसा में चंदन की मौत हो गई थी. उसे गोली लगी थी. चंदन की मौत के बाद कासगंज में हिंसा तेज हो गई थी. कई दुकानों, बसों और अन्य वाहनों में आग लगा दी गई थी.

प्रशासन ने एक वॉट्सऐप ग्रुप के एडमिनिस्ट्रेटर को भी गिरफ्तार किया जो आपत्तिजनक एवं सांप्रदायिक रूप से भड़काऊ पोस्ट कर रहा था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
DRONACHARYA: योगेश्वर दत्त से सीखिए फितले दांव

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi