S M L

जब भगवान राम चाहेंगे, तब मंदिर बनेगाः कपिल सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि हमारी आस्था भगवान राम में है. जब भगवान राम चाहेंगे, तब मंदिर बनेगा. मोदीजी के कहने से नहीं बनेगा

FP Staff Updated On: Dec 06, 2017 08:19 PM IST

0
जब भगवान राम चाहेंगे, तब मंदिर बनेगाः कपिल सिब्बल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि हमारी आस्था भगवान राम में है. जब भगवान राम चाहेंगे, तब मंदिर बनेगा. मोदीजी के कहने से नहीं बनेगा.

कपिल सिब्बल ने कहा कि वे सुप्रीम कोर्ट में सुन्नी बोर्ड का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहे हैं और पीएम मोदी बिना किसी जानकारी के बोल रहे हैं.

परस्पर विरोधी बयानों से और भी मुश्किल में पड़ सकते हैं सिब्बल

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान कपिल सिब्बल ने दलील दी थी कि इस मामले की सुनवाई को 2019 लोकसभा चुनावों तक स्थगित किया जाए. सिब्बल के इस बयान के बाद पहले इस मसले पर बीजेपी ने उन पर जमकर हमला बोला, इसके बाद कांग्रेस ने भी उनके बयान से अपना पल्ला झाड़ लिया. कांग्रेस ने सिब्बल के बयान को निजी बयान कहा और यह कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मानेगी.

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी सिब्बल के इस दलील से किनारा कर लिया था. सुन्नी वक्फ बोर्ड के सदस्य और बाबरी मस्जिद मामले के पक्षकार हाजी महबूब ने सिब्बल के बयान को गलत बताया. उन्होंने कहा कि हां, कपिल सिब्बल हमारे वकील हैं लेकिन वो एक राजनीतिक पार्टी से भी जुड़े हुए हैं. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में उनका बयान गलत था और उन्होंने यह बयान कांग्रेस पार्टी के सदस्य के तौर पर दिया है. हम इस मामले में जल्द से जल्द समाधान चाहते हैं.

कपिल सिब्बल के इस नए बयान से ऐसा लग रहा है कि वे फिर इस मामले में फंस सकते हैं क्योंकि सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भले ही उनके बयान से किनारा कर लिया हो लेकिन सिब्बल को अपना वकील भी बताया है. वक्फ बोर्ड सिब्बल के बयान को बतौर कांग्रेस नेता के रूप में दिए गया बयान कह रही है, वहीं कांग्रेस इसे बतौर वक्फ बोर्ड के वकील के तौर पर दिया गया बयान बता रही है. उधर कपिल सिब्बल कह रहे हैं कि वे सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील नहीं हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi