S M L

बच्चों के यौन उत्पीड़न के अधिकतर मामले सामने नहीं आते : सत्यार्थी

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित और बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी ने कहा है कि देश में 18 साल से कम उम्र के 53 प्रतिशत बच्चे यौन उत्पीड़न के शिकार हैं और अधिकतर मामले सामने नहीं आते.

Updated On: Mar 01, 2018 07:29 PM IST

Bhasha

0
बच्चों के यौन उत्पीड़न के अधिकतर मामले सामने नहीं आते : सत्यार्थी

नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित और बाल अधिकार कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी ने कहा है कि देश में 18 साल से कम उम्र के 53 प्रतिशत बच्चे यौन उत्पीड़न के शिकार हैं और अधिकतर मामले सामने नहीं आते.

वह कल यहां स्कूली बच्चों के साथ बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उनके संगठन ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ ने करीमनगर को बाल मित्र ग्राम बनाने का फैसला किया है.

संगठन की बेवसाइट के अनुसार इस पहल के तहत ऐसे गांव बनाने हैं जहां बच्चे उत्पीड़न से मुक्त हों, उन्हें शिक्षा, मनोरंजन और स्वास्थ्य सुविधाएं मिलें. इसके साथ ही दोस्ताना माहौल में समुदाय में बच्चों की बातें सुनी जाएं.

उन्होंने कहा कि इस पहल के तहत 600 से अधिक गांवों को बाल मित्र ग्राम बनाया जा चुका है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi