S M L

जज ने वकील से कहा पहले IAS बनो तब कराऊंगा बेटी से शादी

जज सुभाष चंद्र चौरसिया ने अपनी बेटी यशस्वी को जबदरस्ती घर में कैद करते हुए उसके प्रेमी से कहा कि अगर वह सिविल सेवा की परीक्षा पास कर लेगा, तभी उन दोनों की शादी हो सकेगी

Updated On: Jun 26, 2018 09:26 PM IST

FP Staff

0
जज ने वकील से कहा पहले IAS बनो तब कराऊंगा बेटी से शादी
Loading...

बिहार की एक जिला अदालत के जज सुभाष चंद्र चौरसिया ने अपनी बेटी के प्रेमी से अनोखी मांग की है. उन्होंने अपनी बेटी यशस्वी को जबदरस्ती घर में कैद करते हुए उसके प्रेमी से कहा कि अगर वह सिविल सेवा की परीक्षा पास कर लेगा, तभी उन दोनों की शादी हो सकेगी. बता दें कि लड़की यशस्वी का प्रेमी सिद्धार्थ बंसल सुप्रीम कोर्ट में वकील है.

न्यूज18 में छपी आलोक कुमार की रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले पर पटना हाई कोर्ट ने खुद संज्ञान लेते हुए महिला को पिता की कैद से मुक्त कराया. इसी के साथ हाई कोर्ट ने चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी को आदेश दिया कि लड़की को यूनिवर्सिटी के अतिथी गृह में रहने की इजाजत दी जाए. मालूम हो कि लड़की इसी कॉलेज की छात्रा है.

इंटर्नशिप के दौरान सिद्धार्थ से मिली थी यशष्वी

दरअसल लड़की ने हाई कोर्ट को बताया कि वह सुप्रीम कोर्ट के वकील सिद्धार्थ बंसल से शादी करना चाहती है. वह इंटर्नशिप के दौरान दिल्ली में सिद्धार्थ से मिली थी. लेकिन जैसे ही उनके परिजनों को इस बारे में पता चला तो उन्होंने उसे वापस पटना बुला लिया.

सिद्धार्थ ने कहा कि यशष्वी ने उन्हे यह जानकारी दी कि उसके पिता ने उसके साथ मार-पीट कर उसे घर में कैद कर लिया है. जिसके बाद 25 मार्च को वह पटना पहुंचा. जहां लड़की के पिता ने उन्हें मिलने की इजाजत नहीं दी. सिद्धार्थ के मुताबिक यशष्वी के पिता ने उस से कहा कि अगर वह शादी करना चाहता है तो पहले सिविल सर्विस की परीक्षा पास करे.

इस मामले पर जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस राजीव रंजन की बेंच ने पुलिस को निर्देश दिया है कि लड़की को यूनिवर्सिटी के अतिथि गृह में सुरक्षा मुहैया कराई जाए.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi