S M L

Jobs In Railway: रेलवे में 2.3 लाख नौकरियां, सवर्ण आरक्षण के तहत होगी 23 हजार भर्तियां

आरटीआई से सामने आया है कि रेलवे जॉब देने के मामले में बिल्कुल फेल रही है. सरकार जितनी जगहें खाली हुई हैं, उन जगहों को भी नहीं भर पाई है

Updated On: Jan 24, 2019 10:16 AM IST

FP Staff

0
Jobs In Railway: रेलवे में 2.3 लाख नौकरियां, सवर्ण आरक्षण के तहत होगी 23 हजार भर्तियां

रेलवे मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को रेलवे में लाखों नौकरियां देने का ऐलान किया. गोयल ने बताया कि रेलवे अगले दो सालों में 2 लाख 30 हजार पदों पर भर्ती करने की तैयारी कर रहा है.

गोयल ने बताया कि अगले दो सालों में रिटायरमेंट से होने वाली वैकेंसी और अन्य स्थानों के लिए कुल मिलाकर 2 लाख 30 हजार लोगों को रेलवे में नौकरी मिल सकती है. हालांकि, एक ट्वीट करके रेलवे मंत्री ने ये भी कहा कि रेलवे में अगले सालों में 4 लाख नौकरियां पैदा होंगी.

उन्होंने बताया कि रेलवे में अभी 1 लाख 32 हजार पद अभी खाली हैं. दो साल में 1 लाख लोग और रिटायर होने वाले हैं. लिहाजा पुरानी ग्रुप सी और ग्रुप डी की वेकैंसी और इस बार जो वेकैंसी रेलवे निकालने वाला है उसको मिला दें तो रेलवे 2 साल में लाखों भर्तियां करेगा. उन्होंने ये फैक्ट भी हाइलाइट किया कि ये भर्तियां सवर्ण आरक्षण के आधार पर की जाएंगी.

2 लाख 30 हजार नए पदों पर होने वाली भर्ती में आर्थिक रूप से कमजोर उम्मीदवारों को 10 फीसदी आरक्षण दिया जाएगा. ये भर्ती दो फेज में होगी. पहले फेज में 1 लाख 31 हजार 428 पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी होगा. ये नोटिफिकेशन फरवरी या मार्च में जारी किया जाएगा. जबकि दूसरे फेज में 99 हजार पदों पर भर्ती के लिए मई-जून 2020 में नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा.

रेलवे कई काडरों और निम्नतम योग्यता वाले पदों के लिए भी भर्ती करेगा. अलग-अलग पदों के लिए किसी इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट से सर्टिफिकेट और डिप्लोमा के साथ इंजीनियरिंग या किसी और डिसिप्लिन में ग्रेजुएशन की अर्हता भी देखी जाएगी.

कितना संभव है रेलवे में 4 लाख लोगों को रोजगार?

अगर, गोयल की ओर से दिए गए आंकड़ों पर ध्यान दें तो रेलवे में अभी 1 लाख 32 हजार पद खाली हैं और अगले दो सालों में 1 लाख लोग और रिटायर हो जाएंगे. सरकार इससे ज्यादा लोगों को जॉब देने की बात कह रही है, लेकिन ये जानना जरूरी है कि क्या सरकार रिटायर हो रही जगहों को भर पा रही है.

हाल ही में एक आरटीआई से सामने आया है कि रेलवे जॉब देने के मामले में बिल्कुल फेल रही है. सरकार जितनी जगहें खाली हुई हैं, उन जगहों को भी नहीं भर पाई है. नई भर्तियों की तो बात ही छोड़ दीजिए.

इकोनॉमिक टाइम्स के मुताबिक, रेलवे में पिछले एक दशक में रेलवे में रिटायरिंग और हायरिंग के संबंध में डाली गई एक आरटीआई में रेलवे ने बताया है कि 2008 से 2018 तक यानी पिछले एक दशक में एक भी साल ऐसा नहीं है, जब रिटायर होने वाले लोगों से ज्यादा लोगों को नौकरी दी गई है. इन 10 सालों में जितने पद खाली हुए हैं, सरकार उन्हें भी नहीं भर पाई है. ऐसे में क्या इस बार भी सरकार का ये दावा खाली जाएगा?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi