S M L

HDFC बैंक में जॉब रैकेट का खुलासा, कंसल्टेंसी ने फर्जीवाड़ा कर 68 को दिलाई नौकरी

बैंक ने अपनी इंटरनल एन्क्वॉयरी के बाद गुरुग्राम सेक्टर 53 के पुलिस थाने में अमित चौधरी उर्फ रोहित कुमार, उसकी पत्नी और एचडीएफसी के कर्मचारियों कोमल कुशवाहा और विशाल पांडे के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है

Updated On: Oct 30, 2018 05:32 PM IST

FP Staff

0
HDFC बैंक में जॉब रैकेट का खुलासा, कंसल्टेंसी ने फर्जीवाड़ा कर 68 को दिलाई नौकरी
Loading...

देश के सबसे बड़े प्राइवेट बैंक एचडीएफसी बैंक में जॉब रैकेट का खुलासा हुआ है. बैंक ने गुरुग्राम के एक कंसल्टेंसी फर्म के खिलाफ फर्जी कागजातों (फेक डॉक्युमेंट्स) के जरिए बड़े स्तर पर जॉब रैकेट चलाने की पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. शिकायत में कहा गया कि बीते 2 वर्षों के दौरान 68 लोगों को बैंक में असिस्टेंट मैनेजर से लेकर ब्रांच मैनेजर पद पर नौकरी दिलवाई गई.

इस फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ जब गीतांजलि बग्गा नाम की एक कर्मचारी की रेफरेंस जांच की गई. पुलिस कंप्लेन के अनुसार बग्गा ने अक्टूबर 2017 में असिस्टेंट मैनेजर के रूप में एचडीएफसी बैंक जॉइन की थी.

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार इस साल फरवरी में कराए गए रेफरेंस जांच के दौरान यह पता चला कि उसे जॉब दिलवाने में ऐडेको कंसल्टेंसी ने मदद की थी. उसने ही फर्जी सैलरी स्लिप, एक्सपीरियंस सर्टिफिकेट और अन्य दस्तावेजों का जुगाड़ किया था. इस मामले की इंटरनल एन्कवॉयरी (अंदरुनी जांच) में बग्गा ने माना कि उसने एजेंसी चलाने वाले अमित चौधरी को 60 हजार रुपए दिए थे. बैंक ने इसके आधार पर ऐडेको कंसल्टेंसी द्वारा नौकरी दिलवाए गए अन्य उम्मीदवारों पर जांच बिठा दी. जांच में पता चला कि 68 कर्मचारियों ने पूर्व में जाली कागजात देकर एचडीएफसी बैंक में नौकरी हासिल की थी.

HDFC-bank

फर्जीवाड़ा से नौकरी पाने वाले 68 में से 51 लोग अब भी कर रहे हैं काम 

इन 68 में से 51 लोग जांच के दौरान भी बैंक में काम कर रहे थे. उनमें से एक ने खुलासा किया कि इस एजेंसी को अमित और उसका साथी सत्येंद्र पाल मिलकर चलाते हैं. जांच में यह भी सामने आया कि ऐडेको के अलावा कुछ दस्तावेजों में लोटस कंसल्टेंसी और अस्पायर कंसल्टेंसी के भी नाम थे.

पुलिस कंप्लेन के मुताबिक नोएडा के सेक्टर 135 स्थित एचडीएफसी ब्रांच का मैनेजर रह चुका सत्येंद्र ने बैंक को बताया कि उसने अपने चयन के लिए एडको को खुद 1.45 लाख रुपए दिए थे. बैंक जॉइन करने के बाद वो उम्मीदवारों को इंटरव्यू फेस करने की ट्रेनिंग देने का काम करता था. साथ ही वो उन्हें बैंक की ऑनलाइन टेस्ट पास करने भी ट्रेनिंग देता था.

बैंक ने सितंबर में पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई. शुरुआती जांच के बाद रविवार को गुरुग्राम सेक्टर 53 के पुलिस थाने में अमित चौधरी उर्फ रोहित कुमार, उसकी पत्नी और एचडीएफसी के कर्मचारियों कोमल कुशवाहा और विशाल पांडे के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi