S M L

JNU छात्रा का आरोप- घेराव के दिन कैंपस में नहीं थी, तब भी नोटिस में नाम घसीटा

बीए तीसरे साल की छात्रा का दावा है कि घेराव वाले दिन वह जेएनयू कैंपस में नहीं थी. उस दिन एक थिएटर कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए ट्रेन से कोलकाता जा रही थीं

Updated On: Jul 14, 2018 01:05 PM IST

FP Staff

0
JNU छात्रा का आरोप- घेराव के दिन कैंपस में नहीं थी, तब भी नोटिस में नाम घसीटा

जवाहर लाल यूनिवर्सिटी (जेएनयू) की एक 20 साल की छात्रा ने जेएनयू प्रशासन पर आरोप लगाया है कि उसका नाम एक ऐसी घटना में घसीटा गया है जिसमें वह शामिल नहीं थी और उस दिन दिल्ली से बाहर थी.

छात्रा का नाम वात्या रैना है. रैना पर एक प्रोफेसर के खिलाफ आयोजित घेराव और हिंसा में शामिल होने का आरोप लगा है. घटना 15 मार्च की है. इस बाबत 4 अप्रैल को उन्हें जेएनयू प्रोक्टर ऑफिस से एक नोटिस भी मिला है.

बीए तीसरे साल की इस छात्रा का दावा है कि घेराव वाले दिन वह जेएनयू कैंपस में नहीं थी. उस दिन एक थिएटर कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए ट्रेन से कोलकाता जा रही थीं.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर में कहा गया है कि रैना ने अपनी गैर-मौजूदगी साबित करने के लिए रेलवे टिकट भी पेश किया है लेकिन प्रोक्टर की एक पड़ताल में उन्हें दोषी ठहराते हुए 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है. छात्रा ने अपनी सफाई में कहा है कि वो जुर्माना नहीं चुका सकतीं क्योंकि ट्यूशन पढ़ाकर बड़ी मुश्किल से पढ़ाई-लिखाई का खर्चा उठाती हैं.

प्रोफेसर के घेराव की घटना 15 मार्च की है जब इटैलियन एंड अमेरिकन स्टडीज स्कूल ऑफ लैंग्वेज के सामने छात्रों के एक समूह ने कई केंद्रों के अध्यक्ष और डीन को हटाए जाने के खिलाफ विरोध मार्च निकाला.

जेएनयू प्रशासन की शिकायत में कहा गया है कि छात्रों ने प्रोफेसर पर हमला किया और आधे घंटे तक उन्हें घेर कर रखा. इतना ही नहीं, छात्रों ने प्रोफेसर को खिलाफ गाली-गलौज भी किया. प्रोफेसर ने अपने आरोप में कहा है कि कई छात्राओं ने उन्हें शाम पांच बजे तक घेर कर रखा और घर नहीं जाने दिया.

प्रोफेसर ने अपने आरोप में 11 छात्राओं का नाम लिया है उसमें एक रैना भी हैं. जबकि रैना का कहना है कि घटना वाले दिन 2 बजे रेलवे स्टेशन निकल गई थीं क्योंकि उन्हें शाम साढ़े चार बजे दिल्ली-सियालदह राजधानी एक्सप्रेस लेनी थी. उन्हें कोलकाता में एक थिएटर प्रोग्राम में भाग लेना था. रैना ने टाइम्स ऑफ इंडिया से कहा कि उस दिन कैंपस में न रहते हुए भी उनके नाम का नोटिस मिलने से वे काफी हैरान-परेशान हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi