S M L

2021 तक भारत का नंबर 1 टेलीकॉम ऑपरेटर होगा Jio, बर्नस्टीन की रिपोर्ट में दावा

रिलायंस ने जियो की शुरुआत दो साल पहले फ्री कॉलिंग और डाटा ऑफर की सुविधा के साथ की थी. जिसके बाद यह 227 मिलियन सब्सक्राइबर के साथ देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम ऑपरेटर कंपनी बन गई

Updated On: Dec 10, 2018 08:27 PM IST

FP Staff

0
2021 तक भारत का नंबर 1 टेलीकॉम ऑपरेटर होगा Jio, बर्नस्टीन की रिपोर्ट में दावा

रिलायंस के जियो नेटवर्क के संबंध में बर्नस्टीन रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है. रिपोर्ट का कहना है कि जियो 2021 तक भारत का नंबर एक टेलीकॉम ऑपरेटर होगा. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रेवेन्यू के मामले में 2021 और सब्सक्राइबर के मामले में 2022 तक 'जियो' भारत में सबसे आगे होगा.

रिलायंस ने जियो की शुरुआत दो साल पहले फ्री कॉलिंग और डाटा ऑफर की सुविधा के साथ की थी. जिसके बाद यह 227 मिलियन सब्सक्राइबर के साथ देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम ऑपरेटर कंपनी बन गई. वोडाफोन और आइडिया के साथ आने और भारती एयरटेल की लोकप्रियता भी जियो को रोक न सकी.

बर्नस्टीन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि जब 2015 में भारतीय टेलीकम्यूनिकेशन मार्केट की कवरेज की गई थी तब यह मालूम था कि जियो इस क्षेत्र को बहुत गहराई से बदल देगा. इसे भारत के सबसे अमीर शख्स का समर्थन मिला था.

रिपोर्ट में कहा गया, 'हम आशा कर रहे थे कि अनलिमिटेड वाइस और डाटा मार्केट में दवाब बढ़ा देगा लेकिन हमने यह आशा नहीं की थी कि यह देश का तीसरा सबसे बड़ा ऑपरेटर बन जाएगा. ऐसा पहले किसी मार्केट में कभी नहीं देखा गया था जब कोई स्टार्टअप इतनी तेजी से बढे.'

ये भी पढ़ें: सरकार ने इन चीनी एप्स को बताया सबसे खतरनाक, आज ही मोबाइल से हटा दें

2015 में भारती एयरटेल और वोडाफोन कड़ी टक्कर दे रहे थे. आइडिया तीसरे नंबर पर था. इसी साल वोडाफोन और आइडिया एक होकर एक बड़े ऑपरेटर बन गए. लेकिन अब रिपोर्ट पहली बार दावा कर रही है कि जियो नंबर एक के पायदान पर पहुंच रहा है. जियो की तरफ से लगातार दी जा रही सब्सिडी से यह और तेजी से होगा.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया अभी जियो का मुकाबला नहीं कर सकते क्योंकि यह नेटवर्क फ्री वाइस सर्विस और कम खर्चीले फोन बनाने की दिशा में काम करते नहीं दिख रहे. इसके बजाय ये कंपनियां अपने भाग्य को स्वीकार कर चुकी हैं और उस समय का इंतजार कर रही हैं जब जियो नेतृत्व करने की स्थिति में आ जाएगा.

रिपोर्ट में कहा गया कि जियो के सब्सक्राइबर्स में लगातार बढ़ोतरी होती जाएगी क्योंकि जियो अपने फोन में लगातार सब्सिडी दे रहा है. जियो से हर महीने 6 से 10 मिलियन नए कस्टमर जुड़ रहे हैं. जियो केवल 1500 रुपए में 4जी जियोफोन दे रहा है जिसका पूरा पैसा बाद में रिफंड हो जाएगा. हालांकि भारती और वोडाफोन मैनेजमैंट ने इस बात के संकेत दिए थे कि वो प्रीपेड यूजर्स के लिए हैंडसेट सब्सिडी देने में भरोसा नहीं रखते.

रिपोर्ट में कहा गया कि हमें विश्वास है कि जियो 2021 तक रेवेन्यू के मामले में सबसे आगे होगा और सब्सक्राइबर के मामले में 2022 तक नंबर एक के पायदान पर होगा. हमे आशा है कि इस वित्तीय वर्ष के आखिर तक जियो के रेवेन्यू में 28 फीसदी और सब्सक्राइबर्स में 26 फीसदी बढोतरी होगी. रिपोर्ट में यह भी उम्मीद जताई गई है कि वोडाफोन और भारती कोई जवाब नहीं देंगे.

ये भी पढ़ें: नाखून की फोटो से अब APP बताएगा कि शरीर में खून है या नहीं

वर्तमान मार्केट शेयर में जियो का रेवेन्यू और सब्सक्राइबर 16 फीसदी है. भारती एयरटेल का रेवेन्यू 31 फीसदी और सब्सक्राइबर 26 फीसदी है. वहीं वोडाफोन आइडिया का रेवेन्यू मार्केट 42 फीसदी और सब्सक्राइबर 37 फीसदी है.

2020-21 के आखिर तक जियो का रेवेन्यू मार्केट 34 फीसदी होगा क्योंकि वोडाफोन-आइडिया और भारती एयरटेल के शेयर 31 फीसदी और 30 फीसदी गिर सकते हैं. 2021-22 तक जियो के सब्सक्राइबर 32 फीसदी होंगे जबकि वोडाफोन आइडिया के शेयर 31 फीसदी और भारती एयरटेल के शेयर 27 फीसदी गिरेंगे.

(डिस्क्लेमरः फ़र्स्टपोस्ट हिंदी रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास है)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi