Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

साथी की मौत से गुस्साए 50 से अधिक हाथियों ने घेरा गांव

बीते बुधवार को झुंड से बिछुड़कर रेलवे ट्रैक पार कर रहा एक हाथी ट्रेन की चपेट में आ गया था

FP Staff Updated On: Oct 01, 2017 09:29 PM IST

0
साथी की मौत से गुस्साए 50 से अधिक हाथियों ने घेरा गांव

बीते बुधवार को झुंड से बिछड़कर एक हाथी ट्रेन की चपेट में आ गया. मौके पर ही उसकी मौत हो गई. घटना स्थल से कुछ दूरी पर उसे दफना दिया गया. चार दिन बाद साथी हाथियों ने उस जगह को घेर लिया है. 50 से अधिक की संख्या में पहुंचे हाथियों का झुंड तबाही मचाने पर उतर आया है.
घटना झारखंड-बंगाल सीमा से सटे बड़सोल थाना क्षेत्र की है. यह इलाका पश्चिम बंगाल के लोधासुली जंगल के पास है. रविवार को हाथियों के तीन बड़े झुंड के गांवों से होकर गुजरने से दहशत फैल गई है.
इससे पहले शनिवार को हाथियों ने यहां कई एकड़ में लगी फसलों को नष्ट कर दिया और घरों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया. इस इलाके को एलिफैंट कॉरिडोर भी कहा जाता है. अपने साथी की मौत से हाथी बेहद गुस्से में हैं.
बुधवार को ट्रेन की चपेट में आने से मर गया था एक हाथी 
बीते बुधवार को झुंड से बिछुड़कर रेलवे ट्रैक पार कर रहा एक हाथी ट्रेन की चपेट में आ गया. इंजन में उसकी बॉडी फंस गई, जिससे वो काफी दूर तक घिसटता गया. उसके चीथड़े उड़ गए. वहीं ट्रेन का इंजन भी क्षतिग्रस्त हुआ था.
इस समय झारखंड में हाथियों की संख्या 555 है. पिछले कई सालों से यह लगातार घटती जा रही है. पिछले पांच साल में 133 हाथी कम हुए हैं. साल 2012 में हुई, गिनती के समय इनकी संख्या 688 थी. वर्ष 2002 में हुए गिनती के समय इनकी कुल संख्या 772 थी. 2007 में गिनती के बाद संख्या घट कर 624 रह गई.
देश में सबसे अधिक हाथी पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड और छत्तीसगढ़ में है. बीते 14 मई को इन राज्य में हाथियों की गिनती हुई थी.
झारखंड वाइल्ड लाइफ के पीसीसीएफ एलआर सिंह ने बताया कि मामले पर नजर रखी जा रही है. बंगाल सरकार से संपर्क साधा गया है. जल्द ही इनपर नियंत्रण पा लिया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi