S M L

झारखंड: स्वामी अग्निवेश पर हमला बोलने वाले इन 8 आरोपियों को जानिए

स्थानीय हिंदूवादी नेताओं का आरोप है कि अग्निवेश लगातार राष्ट्रीयता की भावना के खिलाफ बयान देते हैं. साथ ही वो नक्सलियों का भी समर्थन करते हैं. चर्च और मिशनरीज के इशारे पर वो राज्य के आदिवासियों को बहलाने और झांसा देने आते हैं

FP Staff Updated On: Jul 24, 2018 11:21 AM IST

0
झारखंड: स्वामी अग्निवेश पर हमला बोलने वाले इन 8 आरोपियों को जानिए

पिछले सप्ताह झारखंड के पाकुड़ में स्वामी अग्निवेश उग्र भीड़ के हमले के शिकार हुए. आरोप लगा कि यह हमला भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा (बीजेवाईएम) और हिंदूवादी संगठनों के इशारे पर कराया गया. मगर हमले के चंद घंटे बाद युवा मोर्चा के झारखंड इकाई के अध्यक्ष अमित सिंह ने इन आरोपों का खंडन किया. उन्होंने कहा कि इस हमले में उनके संगठन का कोई भी सदस्य शामिल नहीं हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की टीम ने पाकुड़ का दौरा कर यह पता लगाने की कोशिश की कि इस मामले में दर्ज एफआईआर में जिन 8 लोगों का नाम दर्ज है क्या उनका संबंध बीजेपी युवा मोर्चा, बीजेपी या फिर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से है. आर क्या स्वामी अग्निवेश के यहां की आदिवासी जनता के बीच पैठ जमाने से स्थानीय संघ कार्यालयों में अंदर ही अंदर गुस्सा है जिससे यह घटना हुई.

पाकुड़ के बीजेवाईएम अध्यक्ष प्रसन्न मित्रा और दर्ज किए गए एफआईआर में शामिल एक शख्स ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, अग्निवेश लगातार राष्ट्रीयता की भावना के खिलाफ बयान दे रहे थे. वो नक्सलियों का समर्थन करते हैं. वो पत्थलगड़ी के समर्थन में भी बयान देते हैं. अग्निवेश यहां चर्च और मिशनरीज के इशारे पर आदिवासी जनता को झांसा देने आते हैं.

डिविजनल कमिश्नर प्रदीप कुमार ने कहा, एफआईआर में 92 अन्य अज्ञात लोगों को भी आरोपी बनाया गया है. मुख्यमंत्री रघुबर दास के जांच के निर्देश देने के बाद इन सभी के बयान लिए जा रहे हैं. लेकिन अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है. इस बारे में एक विस्तृत जांच रिपोर्ट का इंतजार है.

इंडियन एक्सप्रेस ने एफआईआर में दर्ज आठों लोगों के बारे में और जानकारी जुटाने के लिए स्थानीय बीजेपी कार्यकर्ताओं और पुलिस अधिकारियों से बातचीत की. इनमें से 3 आरोपियों ने हमसे बात की जबकि 5 इसके लिए उपलब्ध नहीं थे.

Swami Agnivesh

स्वामी अग्निवेश पर 17 जुलाई को पाकुड़ में उग्र भीड़ ने तब हमला बोल दिया जब वो यहां एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे

एफआईआर में जिन 8 लोगों के नाम दर्ज हैं वो इस प्रकार हैं... 

आनंद तिवारी- एक स्थानीय नेता के अनुसार बीजेपी किसान मोर्चा की झारखंड यूनिट का सदस्य है. साहेबगंज का रहने वाला आनंद तिवारी किसान है. इसके अलावा वो एक एनजीओ भी चलाता है.

पिंटू दुबे- बीजेवाईएम के एक नेता ने बताया कि पिंटू दुबे बजरंग दल का जिला संयोजक है. वो छोटा-मोटा बिजनेस करता है.

अशोक प्रसाद- हाल ही में पाकुड़ का वॉर्ड काउंसिलर चुना गया है. अशोक प्रसाद ने कहा, 'मैं बीजेपी से जुड़ा हूं लेकिन फुल टाइम (पूर्णकालिक) नेता नहीं हूं. इलाके के लोगों ने मुझे अपना समर्थन दिया जिसके बाद ही मैं सक्रिय रूप से राजनीति में आया. घटना (स्वामी अग्निवेश की पिटाई) के वक्त मैं वहां मौजूद नहीं था. उस दौरान ली गई किसी तस्वीर या वीडियो फुटेज में मैं वहां नहीं दिखूंगा. मैं मानता हूं कि मेरे विरोधियों ने साजिश के तहत मेरा नाम एफआईआर में शामिल करवाया है.'

प्रसन्न मिश्रा- बीजेवाईएम का जिला अध्यक्ष है. उन्होंने कहा, मैं बचपन से आरएसएस से जुड़ा रहा हूं, और मेडिकल सप्लाई के बिजनेस से जुड़ा हूं.' इसके अलावा प्रसन्न मिश्रा राज्य सरकार द्वारा संचालित सिद्धो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय के सीनेट का मेंबर है.

गोपी दुबे- बीजेपी के एक स्थानीय नेता ने बताया कि वो पार्टी का जिला सचिव है. इसके अलावा गोपी दुबे सरकारी ठेकों के काम भी लेता है.

बलराम दुबे- बीजेपी के एक स्थानीय नेता के अनुसार बलराम दुबे पार्टी का कार्यकर्ता है. वो सरकारी ठेकेदारी का काम करता है.

बादल मंडल- बीजेवाईएम के प्रसन्न मिश्रा ने बताया कि वो सक्रिय रूप से राजनीति में शामिल नहीं है.

शिव कुमार- बीजेवाईएम के प्रसन्न मिश्रा के अनुसार यह भी सक्रिय रूप से राजनीति में शामिल नहीं है.

बता दें कि 17 जुलाई को पाकुड़ में स्वामी अग्निवेश पर कथित रूप से बीजेपी युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं, आरएसएस और बजरंग दल के सदस्यों ने हमला किया था. अग्निवेश यहां 195वें दामिन महोत्सव में हिस्सा लेने पहुंचे थे. घटना वाले दिन होटल से निकलने के बाद उनके साथ मारपीट की गई और उनके कपड़े फाड़ दिए गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi