S M L

अंग्रेजी में दिए कोर्ट ऑर्डर को अरेस्ट वारंट समझ पुलिस ने गिरफ्तार किया युवक

मखदुमपुर बाजार के रहने वाले कारोबारी नीरज कुमार को पुलिस की नासमझी के कारण एक रात हवालात में गुजारनी पड़ी

Updated On: Dec 02, 2018 02:57 PM IST

FP Staff

0
अंग्रेजी में दिए कोर्ट ऑर्डर को अरेस्ट वारंट समझ पुलिस ने गिरफ्तार किया युवक

इसे पुलिस की मनमानी कहें, कानून की कम जानकारी या फिर अंग्रेजी का अज्ञान, लेकिन बिहार पुलिस ने अंग्रेजी में लिखे कोर्ट ऑर्डर को गिरफ्तारी वारंट समझ लिया. दरअसल यह मामला बिहार के जहानाबाद जिले का है, जहां पुलिस ने एक बेकसूर को न केवल गिरफ्तार किया बल्कि उसे कटघरे तक पहुंचा डाला.

जिले के मखदुमपुर बाजार के रहने वाले कारोबारी नीरज कुमार को पुलिस की नासमझी के कारण एक रात हवालात में गुजारनी पड़ी. पीड़ित ने बताया कि पूरी रात हवालात में काटने के बाद सुबह होते ही उन्हें हथकड़ी पहनाकर पटना के फैमिली कोर्ट में हाजिर होना पड़ा.

पत्नी से विवाद के चलते आया था कोर्ट का फैसला

नीरज कुमार ने बताया कि उनका अपनी पत्नी से पिछले छह वर्षों से विवाद चल रहा है. उसी के जीवनयापन भत्ता के लिए कोर्ट से उनकी संपत्ति के विवरण के लिए स्थानीय थाना में वारंट आया था. जिसे वहां तैनात अधिकारियों और पुलिस कर्मियों ने गिरफ्तारी वारंट समझ लिया और 25 नवंबर को दुकान पर आकर गिरफ्तार कर लिया.

इस दौरान नीरज लाख मिन्नत करते रहे, लेकिन इसके बावजूद पुलिसवालों ने एक न सुनी और गिरफ्तारी के बाद हथकड़ी लगा कर नीरज को हवालात में डाल दिया. वो तो भला हो कोर्ट का, जिसने पुलिस की इस कार्यशैली को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए गिरफ्तार युवक को तत्काल रिहाई का आदेश दिया.

इस संबंध में पुलिस के अधिकारी एएसपी पंकज कुमार ने बताया कि गिराफ्तार युवक की संपत्ति जांच करने का वारंट आया था. लेकिन उसकी गिरफ्तारी कैसे हुई यह जांच का विषय है और जल्द ही जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी. इस घटना ने पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है.

(न्यूज18 के लिए रागिब अहसन की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi