विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

आप के किले में सेंधमारी की तैयारी में जेडीयू

एमसीडी चुनाव जैसे-जैसे रंग पकड़ेगा जेडीयू और आप के बीच भी घमासान बढ़ेगा

Amitesh Amitesh Updated On: Mar 02, 2017 08:17 PM IST

0
आप के किले में सेंधमारी की तैयारी में जेडीयू

दिल्ली नगर निगम यानी एमसीडी की सत्ता में काबिज होने के लिए इस बार मुकाबला ज्यादा ही रोचक हो रहा है. पूर्वांचल वोटर की तादाद इस कदर बढ़ गई है कि सभी सियासी दलों को इसी के इर्दगिर्द अपनी रणनीति को बनानी पड़ रही है.

पूर्वांचल समेत बाहरी लोगों की आबादी इस वक्त 40 लाख की है. अब इन्हीं बाहरी वोटर के दम पर एमसीडी के चुनाव में अपना दबदबा कायम करने की तैयारी में सभी सियासी दल हैं.

बिहार की सत्ता में काबिज जेडीयू भी इस बार दिल्ली में अपनी जमीन तलाश रही है. बिहारी और बाहरी वोटर को अपने पाले में लाकर जेडीयू की एमसीडी में कोई बड़ा करिश्मा करने की कोशिश है.

पिछले विधानसभा चुनाव के वक्त आम आदमी पार्टी की दिल्ली की एकतरफा जीत में बिहारी और बाहरी लोगों का बड़ा योगदान रहा था. केजरीवाल को इन लोगों ने सरआखों पर बैठाकर दिल्ली की गद्दी पर बैठा दिया था.

लोकसभा चुनाव में दिल्ली में क्लीन स्वीप करने वाली बीजेपी को भी विधानसभा चुनाव के वक्त मुंहकी खानी पड़ी थी. लेकिन, बीजेपी ने रणनीति बदली, सांसद और भोजपुरी फिल्म स्टार मनोज तिवारी को दिल्ली की कमान सौंपकर सीधे उस वोट बैंक को साधने की कोशिश की है, जिसके दम पर आप दिल्ली में दंभ भर रही है.

ArvindKejriwal_ManojTiwari

फोटो: पीटीआई

बिहारी और बाहरी वोटरों का नया सौदागर जेडीयू  

लेकिन, बाहरी वोटर के सौदागर अब अकेले केजरीवाल नहीं रह गए हैं, न ही बीजेपी के मनोज तिवारी.

जेडीयू की रणनीति को धार देने में लगे हैं जेडीयू के राष्ट्रीय महाचचिव और दिल्ली प्रभारी संजय झा. दिल्ली में लगातार डेरा जमाए संजय झा को इस बात की उम्मीद है कि बिहार में नीतीश कुमार के बेहतर काम काज की छवि और उनके विकास के मॉडल को दिल्ली की जनता भी पसंद करेगी, खासतौर से बिहारी वोटर को तो जरूर रास आएगा.

फ़र्स्टपोस्ट से बातचीत में संजय झा ने कहा कि हमने संगम विहार, देवलिया समेत दिल्ली की कई कॉलोनी का  दौरा किया है जिसमें मूलभूत सुविधाएं तक नहीं हैं.

लोगों ने आप को बड़ी उम्मीद से वोट किया था लेकिन, उनकी उम्मीदों पर पार्टी खरी नहीं उतरी. लिहाजा लोग नाराज दिख रहे हैं.

दरअसल, दिल्ली में 1640 अनधिकृत कॉलोनियां ऐसी हैं जहां न पीने का साफ पानी मिलता है और न ही वहां ड्रैनेज सिस्टम ठीक तरीके से काम करता है. बिजली की खराब हालत लोगों की परेशानी और बढ़ा देती है.

जेडीयू लोगों के भीतर की इसी नाराजगी को भुनाना चाहती है. जेडीयू को लगता है कि बिहार में नीतीश कुमार की बेहतर शासन की छवि के सहारे दिल्ली के विकास की भी बेहतर तस्वीर लोगों को अपनी तरफ खींचने में कारगर हो सकती है.

nitish kumar

दिल्ली में बिहार के विकास के नाम पर वोट बटोरने की तैयारी 

संजय झा कहते हैं कि आज की तारीख में बिहार का शासन दिल्ली से बेहतर दिख रहा है. वहां की व्यवस्था दिल्ली से बेहतर है.

जेडीयू की उम्मीद को पंख लग रहे हैं जमीन पर हो रही तब्दीली से. जमीनी स्तर पर आप के पूर्वांचली वो सभी वोलंटियर्स जेडीयू की तरफ कदम बढा रहे हैं, जो पिछले विधानसभा चुनाव के वक्त तक केजरीवाल के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहे थे.

अभी हाल ही में पूर्वी  दिल्ली के आप के 50 से ज्यादा वोलंटियर्स इस वक्त जेडीयू के साथ जुड़ चुके हैं. इन सभी की तरफ से यही कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार ने जैसा बिहार के भीतर काम किया है वैसा ही काम दिल्ली में भी होगा. खासतौर से उन अनधिकृत कॉलोनियों के भीतर जहां इस वक्त बेसिक सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं.

फ़र्स्टपोस्ट से बातचीत में आम आदमी पार्टी के एक वोलंटियर्स ने यहां तक कहा कि बाहरी लोगों ने आप को समर्थन दिया था. उन्हें लगा आप उनकी परेशानियों को खत्म करेगी. लेकिन, ऐसा हुआ नहीं. ऐसे में अब सबको बार-बार सोचने पर मजबूर होना पड़ रहा है. इस वोलंटियर्स का कहना था कि जल्द ही हम भी जेडीयू के साथ खड़े होंगे.

जेडीयू केजरीवाल के खिलाफ पनप रहे इसी रोष को भुनाने की तैयारी में है. जेडीयू की नजर उन ऑटो वालों पर भी है जो अबतक केजरीवाल के साथ खड़े रहे हैं.

जेडीयू ने एमसीडी चुनाव के वक्त नीतीश कुमार की दो रैली कराने की तैयारी की है जिससे बिहारी वोटर को गोलबंद किया जा सके.

आने वाले दिनों में एमसीडी चुनाव जैसे-जैसे रंग पकड़ेगा जेडीयू और आप के बीच भी घमासान बढ़ेगा. क्योंकि जेडीयू की तरफ से आप के किले में सेंधमारी उसे रास नहीं आ रही.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi