S M L

J&K: पुलवामा मुठभेड़ में मारे गए 7 कश्मीरी नागरिक, अब्दुल्ला ने कहा, 'यह नरसंहार है'

शनिवार सुबह यहां हुई मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिज्बुल के मोस्ट वॉन्टेड कमांडर जहूर समेत 3 आतंकवादियों को ढेर कर दिया था

Updated On: Dec 15, 2018 04:06 PM IST

FP Staff

0
J&K: पुलवामा मुठभेड़ में मारे गए 7 कश्मीरी नागरिक, अब्दुल्ला ने कहा, 'यह नरसंहार है'

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 3 आतंकियों को ढेर कर दिया है. सूत्रों के अनुसार शनिवार सुबह जिले के खारपोरा इलाके में कुछ आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली. जिसके बाद सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने जॉइंट ऑपरेशन चलाया.

घेराबंदी बढ़ता देख एक मकान में छिपे आतंकवादियों ने फायरिंग कर दी. इसके बाद सुरक्षाबलों ने भी जवाबी कार्रवाई की जिसमें 3 आतंकी मारे गए. इस एनकाउंटर में 1 जवान शहीद हो गया है.

हिज्बुल कमांडर जहूर भी मारा गया

मारे गए आतंकियों में हिज्बुल का कमांडर जहूर भी शामिल है. सुरक्षाबलों की मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में शामिल जहूर पूर्व में फौजी रह चुका है. जहूर 173 टेरीटोरियल आर्मी का सदस्य था और 2016 में सर्विस रायफल के साथ भागकर आतंकी बना था.

अभी तक तीनों आतंकियों के शव बरामद नहीं हुए हैं. सुरक्षाबलों का इलाके में फिलहाल सर्च ऑपरेशन जारी है. इस एनकाउंटर के बाद इलाके के लोगों का गुस्सा भड़क उठा है. स्थानीय युवाओं ने सुरक्षाबलों पर जमकर पथराव किया. इस दौरान जवानों ने अपनी आत्मरक्षा में फायरिंग की जिसमें कम से कम 7 लोगों की मौत की खबर है.

किसी तरह की अफवाह के फैलने से रोकने के लिए इलाके में एहतियातन इंटरनेट सर्विस पर रोक लगा दी गई है. बता दें कि इस साल जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन ऑल आउट के तहत अभी तक तकरीबन 250 आतंकवादियों को मुठभेड़ में ढेर कर दिया है. बीते 8 वर्षों में यह संख्या सबसे ज्यादा है.

इस मुठभेड़  के बाद उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर इसे नरसंहार बताया. उन्होंन ट्वीट किया. 'सात लोग मारे गए हैं. इतना ज्यादा बल प्रयोग किए जाने का कोई स्पष्टीकरण नहीं हो सकता. यह एक नरसंहार है और इसी तरीके से इस की व्याख्या की जा सकती है.'

कोई भी देश अपने ही नागरिकों को मार कर युद्ध नहीं जीत सकता: मुफ्ती

पुलवामा में मारे गए कश्मीरी युवकों पर राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर दुख जाहिर किया है. उन्होंने ट्वीट किया, हम कब तक अपने युवाओं की अर्थी को कंधा देते रहेंगे? आज पुलवामा में हुए एनकाउंटर में बहुत सारे निर्दोष नागरिक मारे गए. कोई भी देश अपने ही नागरिकों को मार कर युद्ध नहीं जीत सकता. मैं इन हत्याओं का पुरजोर विरोध करती हूं, और इस रक्त पात को रोकने के प्रयासों की अपील करती हूं.'

जम्मू कश्मीर के पूर्व डीजीपी एसपी वैद ने शनिवार को हुई मुठभेड़ में स्थानीय लोगों की मौत पर दुख जाहिर किया है. उन्होंने ट्वीट किया, 'पुलवामा मुठभेड़ में नागरिकों की मौत पर दुखी हूं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi