S M L

'आतंकियों के परिजन अपने बेटों से हिंसा का रास्ता छोड़ने की करें अपील'

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद्य ने कहा कि हिंसा का रास्ता छोड़कर विकास की मुख्यधारा में लौटने वालों को हर संभव सहायता मुहैया कराया जाएगा

Updated On: Jun 30, 2018 04:15 PM IST

Bhasha

0
'आतंकियों के परिजन अपने बेटों से हिंसा का रास्ता छोड़ने की करें अपील'

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एसपी वैद्य ने घाटी में आतंकवादियों के परिवारवालों से अनुरोध किया है कि वो अपने बेटों से हिंसा का रास्ता छोड़ कर राज्य के विकास में भागीदार बनने की अपील की है.

उन्होंने आतंकवाद का साथ छोड़ने वालों को मदद करने का भरोसा दिया है. एसपी वैद ने कहा कि जो भी आतंकवाद का साथ छोड़कर आएगा उसके पुनर्वास सहित सभी संभावित मदद मुहैया कराई जाएगी.

पुलिस महानिदेशक ने ट्विटर पर लिखा, 'आज एक बार फिर मैं परिवारों से गलत रास्ता अख्तियार करने वाले उनके लड़कों से हिंसा का रास्ता छोड़ने और घर वापसी की अपील करने का अनुरोध करता हूं.'

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस हिंसा का रास्ता छोड़ने और मुख्यधारा में लौटने वालों को हर संभव सहायता मुहैया कराएगी. वैद्य ने कहा, 'जान के नुकसान को देखना काफी दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है. जम्मू-कश्मीर पुलिस पुनर्वास सहित सभी संभावित सहायता मुहैया कराने का वादा करती है.’

अधिकारी ने पूर्व में भी कश्मीरी आतंकवादियों के परिवारों से अपने बेटों से आतंकवाद छोड़ देने और मुख्यधारा में लौटने की अपील करने का अनुरोध किया है. पिछले साल से एक दर्जन से अधिक आतंकवादियों ने कश्मीर में अपने हथियार डाले हैं. ऐसा पुलिस की घोषणा के बाद किया गया जिसमें उसने जारी मुठभेड़ों के बीच स्थानीय आतंकवादियों के समर्पण को स्वीकार करने की बात कही थी. इनमें से अधिकांश आतंकवादी हिंसा का मार्ग छोड़ देने के अपने परिवार के अपीलों के बाद घर लौटे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi