S M L

तीन तलाक का हल कानून से नहीं समाज से निकलेगा: महमूद मदनी

तीन तलाक पर जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष का कहना है कि हल कानून कतई नहीं हो सकता. इसका जो भी समाधान निकालेगी वो सोसाइटी शरीयत से निकालेगी.

Updated On: Jan 15, 2018 04:41 PM IST

FP Staff

0
तीन तलाक का हल कानून से नहीं समाज से निकलेगा: महमूद मदनी

"तीन तलाक का हल कानून कतई नहीं हो सकता. इसका जो भी समाधान निकालेगी वो सोसाइटी शरीयत से निकालेगी. कानून कभी भी इसका समाधान नहीं हो सकता. अगर कानून लागू किया गया तो दमन बढ़ जाएगा." ये कहना है जमीयत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महमूद मदनी का.

न्यूज18 हिन्दी को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने ये बात कही है. उनका कहना है कि दहेज के मामले में भी हम एक्ट बनाकर देख चुके हैं. उसका कितना गलत इस्तेमाल हुआ ये सबने देखा.

उन्होंने कहा कि आज तीन तलाक की तस्वीर ऐसे पेश की जा रही है जैसे हर पैदा होने वाली लड़की को तीन तलाक दिया जा रहा है. सही बात तो ये है कि शरीयत में सिर्फ तुरंत वाले तीन तलाक को ही गलत नहीं बताया गया. बल्कि हर तरह के तलाक पर नाराजगी जाहिर की गई है. ये तो उस मजबूरी में दिया जाता है जब पति-पत्नी का साथ रहना मुश्किल हो जाता है.

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

मदनी का कहना है, "तलाक सिर्फ मुसलमानों की परेशानी नहीं है, ये एक कॉमन समस्या है. गैरमुस्लिमों में मुस्लिमों से ज्यादा तलाक हो रहे हैं. लेकिन पीएम नरेन्द्र मोदी को तो सिर्फ मुस्लिम महिलाओं की ही फिक्र है मर्द चाहें जाएं चूल्हे भाड़ में."

उन्होंने कहा, "अभी तक जमीयत या पर्सनल लॉ बोर्ड ने इस बारे में कोई कदम क्यों नहीं उठाया, इस बारे में मदनी का कहना है कि हमने पहले भी काम किया है और अब भी कर रहे हैं. हमने ही काबिननामा बनाया था. इसके तहत लड़की के घर वाले और रिश्तेदार सहित सब लोग बैठकर आपस की बातचीत से तीन तलाक का हल निकाल सकते हैं."

महरम पर हो रही है राजनीति, ये अरब सरकार का कदम-मदनी

हज यात्रा के दौरान महरम के विषय पर महमूद मदनी का कहना है कि बिना महरम के हज यात्रा पर जाने के मैं खिलाफ नहीं हूं. क्योंकि हमारे यहां चार स्कूल ऑफ थॉट हैं. और उसमे से एक स्कूल शाफी बिना महरम के हज यात्रा की इजाजत देता है. शाफी स्कूल के मानने वाले केरल और कोंकण में बहुत हैं. तो फिर कुछ लोगों का हक क्यों मारा जाए. इसलिए सऊदी अरब सरकार ने भी इसमे छूट दे दी है. ये कदम तो सऊदी अरब सरकार ने उठाया है, देश में तो इस पर सिर्फ राजनीति ही हो रही है.

कानून हाथ में लेने से खराब हो जाएंगे देश के हालात

जमीयत उलामा-ए-हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष महमूद मदनी का कहना है कि गौरक्षा के मामले में लोगों ने कानून अपने हाथ में ले लिया है. जिसकी लाठी उसकी भैंस वाले हालात हो गए हैं. पीएम की अपील के बाद भी ये सब हो रहा है. इससे मुल्क को नुकसान होगा.

Photo Source: ANI

Photo Source: ANI

यूपी में हज हाउस पर भगवा रंग किए जाने पर मदनी का कहना है कि मैं इस पर कुद नहीं बोलना चाहता. बस इतना ही कहूंगा कि रंग तो आखिर रंग ही है. मदरसों पर लगाम और आए दिन मदरसों के लिए यूपी सरकार की ओर से जारी होने वाले फरमान के बारे में महमूद मदनी का कहना है कि हम लोगों ने तो पहले ही आगाह किया था कि सरकारी मदद मत लो, नहीं तो सरकार की दखलअंदाजी तो बढ़ेगी ही. और रहा सवाल यूपी सरकार की कार्रवाही का तो इस बारे में तो मुसलमानों को पहले ही सोच लेना चाहिए था.

(ये इंटरव्यू न्यूज़ 18 के लिए नासिर हुसैन ने लिया है.)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi