S M L

4 फुट का आतंकी, जिसे कोर्ट ने कहा था-मौत का सौदागर

कश्मीर घाटी में हुए कई आतंकी हमलों और वारदातों के पीछे उसका शातिर दिमाग था. इसमें श्रीनगर एयरपोर्ट के बाहर बीएसएफ शिविर पर हुआ हमला और राज्य के मंत्री नईम अख्तर के काफिले पर हुआ हमला भी शामिल था

Updated On: Dec 27, 2017 10:12 AM IST

Bhasha

0
4 फुट का आतंकी, जिसे कोर्ट ने कहा था-मौत का सौदागर

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को करारा झटका लगा है. सुरक्षाबलों ने मंगलवार को जैश के कमांडर नूर मोहम्मद तांत्रे को मुठभेड़ में मार गिराया है. उसे 25 और 26 दिसंबर की मध्य रात दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के सांबूरा में मार गिराया गया.

राज्य पुलिस के आईजी मुनीर खान ने बताया कि नूर मोहम्मद का कद केवल 4.2 फुट था और वो लंगड़ा कर चलता था. अपने इस कद-काठी के चलते वो भीड़ में औरों से अलग दिखता था. लेकिन उसने अपनी इस शारीरिक कमजोरी को अपने शातिराना दिमाग से भरपाई की.

उन्होंने बताया कि कश्मीर घाटी में हुए कई आतंकी हमलों और वारदातों के पीछे नूर मोहम्मद का शातिर दिमाग था. इसमें 3 अक्टूबर को श्रीनगर एयरपोर्ट के बाहर बीएसएफ के शिविर पर हुआ हमला और 21 सितंबर को त्राल में राज्य के मंत्री नईम अख्तर के काफिले पर हुए हमले के पीछे भी उसका ही हाथ बताया जाता है.

नूर मोहम्मद तांत्रे पर 10 लाख रुपए का इनाम घोषित किया गया था.

इस साल अप्रैल में त्राल में हुई आरिपाल मुठभेड़ में जैश के 3 आतंकवादी मारे गए थे मगर तांत्रे बच निकला था. मगर इसके बाद से वो जम्मू-कश्मीर पुलिस की विशेष इकाई की रडार पर था.

आईजी ने कहा कि जैश-ए-मोहम्मद के डिवीजनल कमांडर 47 साल के तांत्रे के मारे जाने से आतंकवादी संगठन को बड़ा झटका लगा है. वह पैरोल पर बाहर था.

नूर मोहम्मद तांत्रे को पुलिस ने 31 अगस्त, 2003 को दिल्ली के सदर बाजार इलाके से गिरफ्तार किया था. वो 8 वर्षों तक तिहाड़ जेल में बंद रहा. 2015 में पेरौल पर रिहा होने के बाद उसने आतंकी गतिविधियां तेज कर दी.

दिल्ली की एक विशेष अदालत ने अपनी टिप्पणी में नूर मोहम्मद तांत्रे को ‘मौत का सौदागर’ कहा था.

तांत्रे संसद पर वर्ष 2001 में हुए हमले के मास्टरमाइंड जैश के कमांडर गाजी बाबा का करीबी सहयोगी था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi