S M L

विमेन वर्जिनिटी पर जाधवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की टिप्पणी पर महिला आयोग ने की जांच की मांग

राष्ट्रीय महिला आयोग ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी को भी पत्र लिखकर मामले की जांच करने के लिए कहा है और इसके साथ आईपीसी के तहत कार्रवाई की भी मांग की है

Updated On: Jan 15, 2019 03:02 PM IST

FP Staff

0
विमेन वर्जिनिटी पर जाधवपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर की टिप्पणी पर महिला आयोग ने की जांच की मांग

कोलकाता के जाधवपुर यूनिवर्सिटी प्रोफेसर के फेसबुक पोस्ट पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है. महिला आयोग की टीम यूनिवर्सिटी के कुलपति से मुलाकात करेगी. इसके अलावा आयोग ने पश्चिम बंगाल के डीजीपी को भी पत्र लिखकर मामले की जांच करने के लिए कहा है और इसके साथ आईपीसी के तहत कार्रवाई की भी मांग की है.

प्रोफेसर ने महिलाओं को लेकर फेसबुक पर टिप्पणी की थी. जिसके बाद हंगामा मच गया था. विमेन वर्जिनिटी पर टिप्पणी करते हुए प्रोफेसर ने लिखा था- क्या आप कोल्ड ड्रिंक की बोतल या बिस्कुट के पैकेट खरीदते समय टूटी सील खरीदने को तैयार हैं?

सरकार ने कहा था- एक लड़की जन्म से तब तक सील्ड पैदा होती है जब तक इसे खोला नहीं जाता है. एक कुंवारी लड़की का अर्थ मूल्यों, संस्कृति और यौन स्वच्छता के साथ कई चीजें हैं. ज्यादातर लड़कों के लिए, एक कुंवारी पत्नी एक परी की तरह होती है.

इसके अलावा, कनक ने न्यूज 18 से कहा था- मैंने कुछ भी गलत नहीं कहा है. संविधान के अनुसार यह मेरी अभिव्यक्ति को प्रस्तुत करने का मेरा अधिकार है. अभिव्यक्ति और बोलने की स्वतंत्रता है. हालांकि इस पोस्ट पर विवाद मचने के बाद कनक ने इसे हटा दिया. इसके बाद वह अपनी फेसबुक प्रोफाइल पर सफाई देते नजर आए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi