S M L

गोश्त ‘हलाल’ या ‘झटका’ यह बताना अनिवार्य किया जाना चाहिए: EDMC

प्रस्ताव में दिल्ली नगर निगम ने दावा किया है कि ‘हलाल’ का गोश्त खाने की इजाजत हिंदू और सिख समुदाय में नहीं है

Updated On: Aug 31, 2018 04:44 PM IST

Bhasha

0
गोश्त ‘हलाल’ या ‘झटका’ यह बताना अनिवार्य किया जाना चाहिए: EDMC

पूर्वी दिल्ली नगर निगम की एक समिति ने प्रस्ताव रखा है कि स्थानीय निकाय के अधिकार क्षेत्र में मांस परोसने या बेचने वाले सभी रेस्तरां और मांस विक्रेताओं के लिए बोर्ड पर यह प्रदर्शित करना अनिवार्य होना चाहिए कि गोश्त ‘हलाल’ है या ‘झटका’.

बीजेपी की अगुवाई वाले दिल्ली नगर निगम की स्थाई समिति ने गुरुवार को इस संबंध एक प्रस्ताव पारित किया. पैनल के निर्णय को दिल्ली नगर निगम की अनुमति मिलने के बाद नगर निगम आयुक्त के लागू करने का इंतजार है.

यह प्रस्ताव कई तर्को पर आधारित है जिसमें ‘पूर्वी दिल्ली में हिंदू और सिख समुदाय के बहुत सारे लोग रहते हैं’ और मांस की बिक्री करने वाले इस क्षेत्र में बहुत सारे रेस्तरां हैं, जैसी बात भी शामिल है.

प्रस्ताव में दिल्ली नगर निगम ने दावा किया है कि ‘हलाल’ का गोश्त खाने की इजाजत हिंदू और सिख समुदाय में नहीं है.

प्रस्ताव में कहा गया कि स्थाई समिति यह सुनिश्चित करना चाहती है कि गोश्त की बिक्री करने या परोसने वाले रेस्तरां और मांस विक्रेताओं को अपने बोर्ड में यह प्रदर्शित करना अनिवार्य होना चाहिए कि उनके द्वारा बेचा जा रहा मांस ‘हलाल’ है या ‘झटका’.

दिल्ली नगर निगम के सूत्रों ने बताया कि कुछ मांस विक्रेता और रेस्तरां बोर्ड पर इसे प्रदर्शित करते हैं लेकिन सभी ऐसा नहीं करते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi