S M L

इशरत मामला: वंजारा और अमीन को बरी करने की याचिका पर आदेश 7 अगस्त को आने की संभावना

इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में पूर्व पुलिस अधिकारी डीजी वंजारा और एनके अमीन को बरी करने की उनकी याचिकाओं पर सुनवाई कर रही अदालत सात अगस्त को आदेश पारित कर सकती है

Bhasha Updated On: Aug 04, 2018 04:12 PM IST

0
इशरत मामला: वंजारा और अमीन को बरी करने की याचिका पर आदेश 7 अगस्त को आने की संभावना

इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में पूर्व पुलिस अधिकारी डीजी वंजारा और एनके अमीन को बरी करने की उनकी याचिकाओं पर सुनवाई कर रही सीबीआई की विशेष अदालत सात अगस्त को आदेश पारित कर सकती है. विशेष सीबीआई अदालत के जस्टिस जेके पांड्या ने कहा कि आदेश शनिवार के लिए सूचीबद्ध किया गया था, जिसे मंगलवार को पारित किया जाएगा.

अदालत ने पिछले महीने दोनों सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारियों, सीबीआई और इशरत की मां शमीमा कौसर की जिरह पर सुनवाई पिछले महीने पूरी कर ली थी. कौसर ने वंजारा को बरी किए जाने की याचिका को चुनौती दी थी.

गुजरात के पूर्व डीआईजी वंजारा ने राज्य के पूर्व प्रभारी डीजीपी पीपी पांडेय को बरी किए जाने के तर्ज पर खुद को बरी करने की मांग की थी. पांडेय को इस वर्ष फरवरी में साक्ष्यों के अभाव में मामले में बरी कर दिया गया था.

वंजारा ने अपनी याचिका में दावा किया था कि केंद्रीय एजेंसी की तरफ से दायर आरोपपत्र ‘मनगढ़ंत’ है और उनके खिलाफ कोई भी ‘अभियोग लायक सामग्री नहीं’ है. गुजरात एटीएस के पूर्व प्रमुख ने कहा कि गवाहों के बयान ‘काफी संदिग्ध’ हैं.

पुलिस अधीक्षक पद से सेवानिवृत्त अमीन ने इस आधार पर बरी किए जाने की मांग की कि मुठभेड़ वास्तविक था और केंद्रीय जांच ब्यूरो की तरफ से पेश गवाहों की गवाही विश्वास योग्य नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi