live
S M L

दलित नहीं था रोहित वेमुला, निजी परेशानियों से की खुदकुशी: रिपोर्ट

रोहित वेमुला की रिपोर्ट में साबित हुआ कि वो अपनी नीजि कारणों से परेशान और जिंदगी से नाखुश था

Updated On: Aug 16, 2017 06:53 PM IST

FP Staff

0
दलित नहीं था रोहित वेमुला, निजी परेशानियों से की खुदकुशी: रिपोर्ट

मंगलवार को हैदराबाद युनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला के आत्महत्या मामले की एक जांच रिपोर्ट सामने आई है. इसकी पड़ताल कर रही जांच कमीशन ने अपनी रिपोर्ट को सार्वजनिक कर दिया है. इस रिपोर्ट का दावा है कि रोहित वेमुला ने कॉलेज प्रशासन से तंग आकर अपनी जान नहीं दी थी, बल्की उसकी आत्महत्या का कारण उसकी निजी परेशानियां थी. रिपोर्ट के अनुसार रोहित वेमुला दलित नहीं था.

मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा गठित इस न्यायिक आयोग की अध्यक्षता कर रहे इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व न्यायधीश ने कहा, 'रोहित वेमुला ने अपने सुसाइड नोट में निजी कारणों से परेशान होने की बात कही है. साथ ही वह अपनी जिंदगी से नाखुश भी था.' उसने किसी को भी अपनी मौत के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया है.

बता दें कि रोहित की आत्महत्या के बाद राजनीति काफी गरमा गई थी, जिसके चपेट में तत्कालीन मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी और बीजेपी नेता बंडारू दत्तात्रेय भी आ गए थे. बताया गया था कि बीजेपी नेताओं के दबाव में आकर कॉलेज प्रशासन ने रोहित के खिलाफ कार्रवाई की थी.

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर रोहित कॉलेज की कार्रवाई से परेशान होता तो उसका जिक्र अपने सुसाइड नोट में जरूर करता. साथ ही रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि रोहित की आत्महत्या से स्मृति ईरानी और बंडारू दत्तात्रेय का कोई लेना देना नहीं हैं.

रोहित ने 17 जनवरी 2016 को हॉस्टल के कमरे में सुसाइड कर लिया था. इससे पहले रोहित पर एबीवीपी के छात्र नेता को पीटने का आरोप भी लगा था. इसके बाद रोहित को उसके पांच साथियों के साथ कॉलेज से निष्कासित कर दिया था. निष्कासित छात्रों को कॉलेज में रुकने की इजाजत नहीं थी, लेकिन उन्हें लेक्चर और रिसर्च करने की पूरी छूट थी.

सुसाइड के बाद प्रदर्शन कर रहे संगठनों की तरफ से इन छात्रों को लगातार दलित बताया जा रहा था. हालांकि आयोग की जारी रिपोर्ट में रोहित के दलित होने की बात को भी नकार दिया है.

(साभार न्यूज़ 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi